HindiHealthGuide

अमरूद के 13 फायदे, उपयोग और नुकसान – Guava Benefits

Guava Benefits

फल पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माने जाते हैं। खासकर, भागदौड़ भरी जिंदगी में ये जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति का काम कर सकते हैं। वैसे सभी फल गुणकारी होते हैं,

आज हम अमरूद के फायदे (Guava benefits) की बात करेंगे। यह आसानी से मिल जाने वाला फल है और अमरूद के गुण शरीर को स्वस्थ रखने के साथ-साथ कई बीमारियों से बचाव का काम भी कर सकते हैं।

अमरूद का परिचय (Introduction of (Guava) Amrud)

अमरूद (Amrud) भारत में मिलने वाला एक साधारण फल है। लगभग अधिकांश घरों या ग्रामीण इलाकों में इसके पेड़ मिल जाते हैं। कुछ पाश्चात्य विद्वानों का कहना है कि इसे अमेरिका से यहाँ पुर्तगीज लोगों द्वारा लाया गया है तथा साथ ही साथ यह भी कहते है कि अमरूद का पेड़ (Guava Tree) भारतवर्ष के कई स्थानों पर जंगलों में होता है। परंतु सच यह है कि जंगली आम, केला आदि के समान इसकी उपज अत्यन्त प्राचीन काल से हमारे यहाँ होती रही है तथा यह यहाँ का ही मूल फल है। इस लेख में हम आपको अमरूद के फायदे (Guava benefits in hindi), नुकसान और सेवन के तरीकों के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।   

अमरूद (Amrud) के औषधीय गुण – Medicinal Properties of Guava

आयुर्वेद के अनुसार, अमरुद एक कसैला, स्वादिष्ट, भारी, शीतल, कफकारक, अम्लीय, वात-पित शामक, शुक्रजनक, तीक्ष्ण, तृष्णा, कृमि, मूर्च्छा, भ्रम, उन्माद, शोथ, विषम ज्वर नाशक फल है।

पेट साफ कर कब्ज़ियत दूर करने में सर्वोत्तम है। भोजन के पश्चात् खाने से पाचन क्रिया सुधारता है और भोजन के पूर्व खाने से अतिसार में लाभकारी है। शीतकाल के फल अधिक बलकारी और तृप्तिदायक होते हैं।

यूनानी चिकित्सा के अनुसार, अमरूद में पहले दर्जे की ठंडी और दूसरे दर्जे की ऊष्ण प्रकृति होती है। यह रक्तदोष जन्य शरीर के चकत्ते, दूषित व्रण व मसूढ़ों की सूजन को दूर करने में सर्वोत्तम है।

वैज्ञानिक मतानुसार अमरूद की रासायनिक बनावट में पानी 89.9, कार्बोहाइड्रेट 14.9, प्रोटीन 1.5, वसा 1.2, खनिज-लवण 1.8 प्रतिशत पाए जाते हैं।

इसके अलावा पर्याप्त विटामिन ‘सी’, कैल्शियम, फास्फोरस व आयरन भी पाया जाता है। अमरूद के पत्तों में राल, वसा, काष्टोज, टेनिन, उड़नशील तेल और खनिज लवण होते हैं।

अमरूद (Amrud) के फायदे – Guava Benefits

अमरूद (Amrud) किसी भी बीमारी के जोखिम से बचा सकता है या बीमारी के लक्षण को कम कर सकता है। इसलिए, अमरूद (Amrud) को किसी भी गंभीर बीमारी का इलाज समझने की भूल न करें।

तो चलिए अब अमरूद (Amrud) के फायदे (Guava Benefits) जानते है। जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते है।

1. आंखों मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in eyes

अमरूद में विटामिन A पाया जाता है, जो आंखों को सेहतमंद बनाए रखता है ।अमरूद खाने से रतौंधी और मोतियाबिंद का खतरा कम हो जाता है।

इसके अलावा अमरूद त्‍वचा की सेहत बरकारार रखने के काम भी आता है। अमरूद खाने से त्‍वचार की झुर्रियों, रूखेपन और टैनिंग से छुटकारा मिलता है। यही नहीं अमरूद खाने से त्‍वचा की रंगत निखरती है और मुंहासे भी कोसों दूर रहते हैं।

इसे भी पढे – Burning eyes causes | आंखों में जलन के कारण एवं 5 इलाज

2. रोग प्रतिरोधक क्षमता मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in boost immunity system

Immunity

अमरूद विटामिन सी (vitamin C) का अच्छा सोर्स है। इसमें संतरे के मुकाबले चार गुना ज्यादा विटामिन सी होता है। विटामिन सी इम्यूनिटी बढ़ाने में सबसे अधिक उपयोगी है।

यह आपको सामान्य संक्रमण (Common infections) और विभिन्न प्रकार की बीमारियों (Various diseases) से भी बचाता है। विटामिन सी आपके शरीर की कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है।

यह गठिया (Arthritis), कैंसर और हृदय रोग (Cancer and Heart Disease) जैसी गंभीर बीमारियों के खतरे को कम कर सकता है।

इसे भी पढे – How to boost Immunity System | इम्यूनिटी सिस्टम कैसे बढ़ाए

3. कब्ज मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in eyes)

अन्य फलों की तुलना में अमरूद में अच्छी मात्रा में अच्छे आहार फाइबर होते हैं। इसकी फाइबर की मात्रा इसे पाचन स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक फायदेमंद बनाती है।

यह मल त्याग में भी मदद करता है। यह आपके कब्ज की समस्या से परेशान लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

4. खाँसी-जुकाम मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in sinus

Home Remedies for Common Cold

जुकाम के पुराने रोगी, जिसका कफ न निकल रहा हो, को एक बड़ा अमरूद बीज निकालकर खिला दें और ऊपर से ताजा जल रोगी नाक बंद करके पी ले। दो-तीन दिन में ही रुका हुआ जुकाम बहकर साफ हो जाएगा।

दो-तीन दिन बाद अगर स्राव रोकना हो तो 50 ग्राम गुड़ रात्रि में बिना जल पीए खा लें। यदि सूखी खाँसी हो और कफ न निकलता हो तो,

सुबह एक ताजे अमरूद (guava in hindi) को तोड़कर, चबा-चबा कर खाने से 2-3 दिन में लाभ होता है। अमरूद का भबका यंत्र द्वारा अर्क निकालकर उसमें शहद मिलाकर पीने से भी सूखी खाँसी में लाभ होता है। 

एक रिसर्च के अनुसार अमरुद की पत्तियों का सेवन जुकाम खांसी से आराम दिलाने में सहायक होता है क्योंकि अमरुद में पाये जाने वाला विटामिन- सी जुकाम और खांसी से शरीर को लड़ने में मदद करता है।

इसे भी पढे सर्दी-जुकाम से राहत पाने के घरेलू उपचार (Home Remedies for Common Cold)

5. वजन कम करने मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in weight loss

how to weight loss

स्वस्थ व्यक्ति में उसकी लंबाई के अनुसार कितना वजन होना चाहिए, इसका जवाब बॉडी मॉस इंडेक्स (BMI) के जरिए लगाया जाता है। बॉडी मॉस इंडेक्स का अधिक होना मोटापा की ओर इशारा करता है

एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर पब्लिश एक स्टडी के अनुसार, छिलके वाले पके अमरूद से बने सप्लीमेंट से बॉडी मॉस इंडेक्स कम हो सकता है।

सप्लीमेंट के साथ-साथ पके हुए अमरूद का भी सेवन किया जा सकता है। हालांकि, बॉडी मॉस इंडेक्स और मोटापा कम करने में अमरूद कैसे फायदेमंद हो सकता है, इस विषय पर अधिक शोध की जरूरत है।

इसे भी पढे –

6. तनाव को कम करने मे फायदेमंद अमरूद 

stress

मैग्नीशियम तनाव के हार्मोंस को कंट्रोल करने का भी काम करता है, जो अमरूद में भरपूर मात्रा में होता है। दिनभर की थकावट दूर करना चाहते हैं तो अमरूद खाएं।

इससे मानसिक रूप से थकान नहीं होती है। हालांकि, यह सीधे तौर पर कितना प्रभावकारी होगा, इस विषय में अभी और शोध किए जाने की आवश्यकता है।

7. पेट दर्द में फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in stomach pain

अमरूद के पेड़ की पत्तियों को बारीक पीसकर काले नमक के साथ चाटने से लाभ होता है। अमरूद के फल की फुगनी (अमरूद के फल के नीचे वाले छोटे पत्ते) में थोड़ा-सी मात्रा में सेंधानमक को मिलाकर गुनगुने पानी के साथ पीने से पेट मे दर्द समाप्त होता है। यदि पेट दर्द की शिकायत हो तो अमरूद की कोमल पत्तियों को पीसकर पानी में मिलाकर पीने से आराम होता है। 

8. दांतों के दर्द में फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in Toothache

अमरूद को एंटीप्लाक एजेंट के रूप में पहचान मिली हुई है। यह प्लाक यानी कि दांतों पर जमने वाली बैक्टीरिया युक्त परत से दांतों की सुरक्षा कर सकता है।

इस प्लाक को पीरियडोंटल डिजीज (मसूड़ों के संक्रमण) का एक जोखिम कारक कह सकते है। अमरूद में रोगाणुरोधी गतिविधि पाई जाती है, जिसका मुख्य कारण फ्लेवोनोइड्स, ग्वाजाइवरिन और क्वेरसेटिन जैसे तत्व है।

इसकी छाल में टैनिन की उपस्थिति के कारण यह रोगजनक बैक्टीरिया से छुटकारा दिला सकता है। अमरूद की पत्तियों के अर्क में मुंह में पाए जाने वाले कई प्रकार के जीवाणुओं को नष्ट करने की क्षमता देखी गई है।

9. बवासीर (पाइल्स) मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in piles

सुबह खाली पेट 200-300 ग्राम अमरूद नियमित रूप से सेवन करने से बवासीर में लाभ मिलता है। कुछ दिनों तक रोजाना सुबह खाली पेट 250 ग्राम अमरूद खाने से भी बवासीर ठीक हो जाती है।

बवासीर को दूर करने के लिए सुबह खाली पेट अमरूद खाना उत्तम है। मल-त्याग करते समय बांयें पैर पर जोर देकर बैठें।

इस प्रयोग से बवासीर नहीं होती है और मल साफ आता है। पके अमरुद खाने से पेट का कब्ज खत्म होता है, जिससे बवासीर रोग दूर हो जाता है। 

10. स्वस्थ त्वचा मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in healthy skin

glowing skin

त्वचा में निखार लाने के अमरूद के उपयोग किए जा सकते हैं और इसमें अमरूद की पत्तियां मदद कर सकती है। दरअसल, अमरूद की पत्तियों के मेथेनॉलिक अर्क में सूरज की यूवी किरणों से होने वाले पिगमेंटेशन के खिलाफ एंटीमेलानोजेनेसिस गतिविधि देखी गयी है

यानी यह मेलेनिन के उत्पादन को कम कर सकती हैं। मेलेनिन की अधिक मात्रा त्वचा को दागदार बना सकती है, जिससे अमरूद व इसकी पत्तियां बचाव कर सकती हैं। हालांकि, यहां अमरूद का फल किस प्रकार मददगार हो सकता है, इससे जुड़े सटीक शोध का अभाव है।

11. पेचिश में फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in Dysentery

बच्चे का पुराना पेचिश मिटाने के लिए अमरूद (guava meaning in hindi) की 15 ग्राम जड़ को 150 मिली जल में पकाकर जब आधा जल  शेष रह जाए तो 6-6 मि.ली. तक दिन में दो-तीन बार पिलाना चाहिए।

कच्चे अमरूद के फल को भूनकर खिलाने से भी अतिसार में लाभ होता है। अमरूद की छाल व इसके कोमल पत्रों का काढ़ा बनाकर 20 मि.ली. मात्रा में पिलाने से हैजा की प्रारम्भिक अवस्था में लाभ होता है।

अमरूद की छाल का काढ़ा अथवा छाल के 5-10 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से पेचिश, हैजा, दूषित भोजन की विषाक्तता, उल्टी तथा अनपच आदि ठीक होते हैं।

अमरूद का मुरब्बा, पेचिश एवं अतिसार में लाभदायक है। अमरूद के नये पत्तों को पीसकर स्वरस निकाल लें। इस स्वरस में चीनी मिलाकर प्रातःकाल सेवन करने से सात दिनों में बदहजमी में लाभ होने लगता है।

12. थायराइड मे फायदेमंद अमरूद – Guava Benefits in Thyroid

थायराइड गले में मौजूद ग्रंथि होती है। यह ग्रंथि हार्मोन का निर्माण करती है और ये थायराइड हार्मोन बॉडी मेटाबॉलिज्म में अहम भूमिका निभाते हैं। वहीं, जब ये हॉर्मोन असंतुलित होते हैं,

तो उसे थाइराइड की समस्या कहते हैं। इससे जुड़े एक शोध का मानना है कि अमरूद का सेवन थायराइड की स्थिति में सुधार कर सकता है। हालांकि, यह किस प्रकार यह लाभ पहुंचाता है, इससे जुड़े सटीक शोध का अभाव है।

13. अमरूद में पाए जाने वाले विटामिन्स

अमरूद के उपयोग से शरीर में कई विटामिन की पूर्ति की जा सकती है। अमरूद में विटामिन-ए, सी, के और बी6 पाया जाता है। आइए जानते हैं कि अमरूद में कौन-सा विटामिन है और उनके क्या लाभ मिल सकते हैं?

  • विटामिन-ए आंखों के लिए, पेट के लिए, त्वचा के लिए व श्वसन तंत्र के लिए जरूरी है।
  • विटामिन-सी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जरूरी होता है।
  • विटामिन-के कैंसर के जोखिम को कुछ हद तक कम कर सकता है। साथ ही हड्डियों को स्वस्थ बनाकर उन्हें टूटने से बचा सकता है और हृदय संबंधी बीमारी के खतरे को भी कम कर सकता है।
  • विटामिन-बी 6 दिमागी विकास के लिए जरूरी होता है, खासकर भ्रूण के दिमागी विकास के लिए। इसलिए, गर्भवती महिलाओं को विटामिन-बी6 की काफी जरूरत होती है।

अमरूद के पौष्टिक तत्व – Nutritious ingredients of guava

अमरूद के फायदे (Bnefits of guava) और अमरूद के लाभ के बारे में आप जान चुके हैं। अब यहां हम आपको अमरूद के पोषक तत्व के बारे में बताएंगे।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी80.80 g
एनर्जी68 Kcal
प्रोटीन2.55 g
टोटल लिपिड (फैट)0.95 g
कार्बोहाइड्रेट14.32 g
फाइबर (टोटल डाइटरी)5.4 g
शुगर8.92 g
कैल्शियम18 mg
आयरन0.26 mg
मैग्नीशियम22 mg
फास्फोरस40 mg
पोटैशियम417 mg
सोडियम2 mg
जिंक0.23 mg
विटामिन सी228.3 mg
थियामिन0.067 mg
राइबोफ्लेविन0.040 mg
नियासिन1.084 mg
विटामिन बी-60.110 mg
फोलेट (डीएफई)49 µg
विटामिन ए (आरएई)31 µg
विटामिन ए (आईयू)624 IU
विटामिन ई0.73 mg
विटामिन के2.6 µg
फैटी एसिड (सैचुरेटेड)0.272 g
फैटी एसिड (मोनोअनसैचुरेटेड)0.087 g
फैटी एसिड (पॉलीसैचुरेटेड)0.401 g

अमरूद का उपयोग – How to Use Guava

अब जब अमरूद खाने के इतने फायदे जान चुके हैं, तो आपका यह सवाल भी हो सकता है, कि अमरूद का सेवन कब और कैसे किया जाए। इन सारे सवालों का जवाब हम कुछ बिंदुओं के माध्यम से बता रहे हैं। आगे अमरूद के उपयोग के बारे में जानेंगे।

अमरूद खाने का तरीका – (How to eat guava)
  • सबसे पहले अच्छा अमरूद चुनें, कोशिश करें कि अमरूद पका हुआ और नर्म हो।
  • ध्यान रहे कि अमरूद जरूरत से ज्यादा नर्म न हो, क्योंकि ऐसा होने से अमरूद सड़ा हुआ या जल्दी खराब हो सकता है।
  • अमरूद को अच्छी तरह से धो लें, जिससे इससे धूल-मिट्टी या गंदगी निकल जाए। और अमरूद साफ हो जाए।
  • अमरूद को हमेशा काटकर खाएं। अमरूद के लाभ के लिए यह जरूरी है क्योंकि इसमें कीड़े हो सकते हैं।
  • पके हुए अमरूद को नमक के साथ खा सकते हैं या कच्चे अमरूद को छोटा-छोटा काटकर या उसे घिसकर नमक के साथ खा सकते हैं।
अमरूद का सेवन कब करें? (When to consume guava?)

अमरूद का सेवन कभी भी किया जा सकता है। इसे ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर के बीच में खाएं, क्योंकि हेल्दी स्नैक्स का यह बढ़िया विकल्प है।

अमरूद का सेवन कैसे करना चाहिए ( How to consume Guava in Hindi)

अमरूद को आप फल के रूप में खा सकते हैं। अगर आप इसका औषधीय उपयोग करना चाहते हैं तो आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही उपयोग करें।

अमरूद का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए? (What quantity of guava should be consumed?)
2- 3 मध्यम आकार के अमरूद प्रतिदिन आराम से खाए जा सकते हैं। इसका कितनी मात्रा में सेवन करना सुरक्षित है, इसके बारे में शोध का अभाव है। बेहतर होगा डायटीशियन से सलाह लें।

अमरूद खाने के नुकसान | Side Effects Of Guava

Guava Benefits

अमरूद के कुछ गंभीर साइड इफेक्ट नहीं होते हैं, लेकिन खाते वक्त और कई बीमारियों में थोड़ी सावधानी बरतनी जरूरी है।

  • ज्यादा अमरूद के सेवन से सूजन, पेट फूलना और गैस जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  • अगर आपकी पाचन शक्ति कमजोर है, तो ज्यादा अमरूद का सेवन न करें।
  • ज्यादा अमरूद खाने से पेट खराब हो सकता है, क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है।
  • गर्भवती महिला या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अमरूद का सेवन सावधानी से करना चाहिए, क्योंकि इसके ज्यादा सेवन से उन्हें पेट संबंधी परेशानियां हो सकती है।
  • अगर किसी को कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्या है, जिसमें फाइबर और पोटैशियम का सेवन न के बराबर करना हो, तो ऐसी स्थिति में अमरूद के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह-परामर्श कर लें।
  •  अगर किसी को ठंड या सर्दी-खांसी की ज्यादा परेशानी है, तो ऐसे में अमरूद कम खाएं, क्योंकि अमरूद की तासीर ठंडी होती है और इससे ठंड लग सकती है।
  •  सिर्फ अमरूद ही नहीं उसके पत्ते से भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं। गर्भवती महिला को अमरूद के पत्ते की चाय या अमरूद के पत्ते से बनी किसी भी चीज का सेवन नहीं करना चाहिए।

नोट: अमरूद के ये नुकसान तभी होते हैं जब अधिक मात्रा में या गलत तरीके से इसका सेवन किया जाता है अगर आप अमरूद को सावधानी के साथ खाते हैं

तो अमरूद के नुकसान से बचा जा सकता है अमरूद सबसे सरल फलों में से एक है, जो गुणकारी, सस्ता और आसानी से मिलने वाला फल ह। और यह आपके लिए सबसे पौष्टिक भी है। तो आज से ही अमरूद खाना शुरू करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *