HindiHealthGuide

रूसी (डैन्ड्रफ) – Dandruff in Hindi

Dandruff in Hindi

डैंड्रफ क्या है? – What is Dandruff in Hindi

महिला हो या पुरुष, आजकल रूसी मतलब डैंड्रफ (dandruff) की समस्या बहुत आम हो गई है। बालों की सही साफ़ सफाई ना करना, बालों में जरूरत के मुताबिक तेल ना लगाना, ज्यादा पसीना आना, हार्मोन का असंतुलन और कई बार तनाव के कारण भी सिर में डैंड्रफ हो जाता है।

यदि आपने कभी ब्लैक ड्रेस पहनते समय अपने कंधों पर सफेद चॉक डस्ट जैसा देखा है। अगर हां तो यही डैंड्रफ (रूसी) है। ये आनुवांशिक होने के साथ बदलते वातावरण के कारण भी हो सकती है।

ये अधिकतर हमारे सिर की ऑयली स्किन वाले हिस्से पर ही अपना घर बनाती है, जिसके परिणाम स्वरूप ये सिर की त्वचा पर सफेद पपड़ी और खुजली का कारण भी बनती है।

कई बार सिर खुजाने पर आपने अपने नाखूनों में भी इसे देखा होगा। जब रूसी (dandruff) के कारण सिर पर खुजली बढ़ने लगे। और आप दूसरों के सामने शर्मिंदा महसूस करने लगें तो समझ जाएं कि अब समय आ गया है

इससे छुटकारा पाने का। बेहतर होगा इसकी शुरूआत में ही आप इसका इलाज कर लें, जिससे ये ज्यादा बढ़ने न पाए।

यह भी पढे – बालों का झड़ना कैसे रोकें

रूसी होने के कारण (Causes Of Dandruff)

आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर में वात-पित्त-कफ दोष पाये जाते हैं। अगर दोष असंतुलित हो जाये तो हमारे शरीर में बहुत सारी बीमारियां पैदा होने लगती हैं।

इसी प्रकार रूसी में मुख्यत पित्त और कफ दोष के असंतुलित हो जाने के कारण यह रक्त में मिलकर खून को गन्दा कर देते हैं। सिर के रोम छिद्र (Pores) को बंद कर देते हैं। जिससे सिर की त्वचा रूखी होने लगती है।

और सिर पर पपड़ी जमने लगती है। जिसे रूसी कहते हैं। लेकिन रूसी होने के बहुत सारे कारण होते हैं। अब आप जानना चाहेंगे कि घर पर ही कौन-कौन से उपाय कर आप रूसी का इलाज (How to Remove Dandruff from Hair Permanently at Home in Hindi) कर सकते हैं। आइए आगे इनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

विटामिन की कमी

हमारे शरीर में बहुत सारे जीवीय तत्व पाये जाते हैं जो कि हमारे शरीर की वृद्धि के लिये बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। जो व्यक्ति अच्छे से खान-पान नहीं करते हैं अथवा जो लोग खाने में जीवनीय तत्व की मात्रा बहुत कम लेते हैं।

जो लोग बाहर का जंक फूड जैसे पिज्जा, बर्गर, मैदे से बनी हुई चीजों का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं और हरी सब्जियाँ जैसे; लौकी, तरोई, परवल आदि बहुत कम मात्रा में लेते हैं।

जिसकी वजह से जीवनीय तत्व की कमी हो जाती है। रूसी में मुख्यत (Vitamin ’B’ Complex) जीवनीय तत्व की कमी की वजह से होने लगती ह

उम्र (Age)

यौवनावस्था (15-18) वर्ष की उम्र में हमारे शरीर का विकास बहुत तेज गति से होता है जिसकी वजह सामान्यत: हार्मोन्स असंतुलित हो जाता है। जिससे कुछ लोगों की सिर की त्वचा ज्यादा तैलीय होने लगती है

जिसके कारण बालों में रूसी होने लगती है। कुछ लोगों में हार्मोन्स असंतुलित होने के कारण सिर की त्वचा रूखी होने लगती है। जिसके कारण सिर की त्वचा पर फफूंदी जैसी पपड़ी जमने लगती है।

मानसिक तनाव (Mental Stress)


आजकल लोग मानसिक तनाव में ज्यादा रहते हैं जिस कारण से हमारे शरीर में मौजूद स्ट्रेस हार्मोन का स्राव सामान्य से ज्यादा होने लगता है। जिस कारण से रूसी हो जाती है।

आजकल लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है क्योंकि खाने-पीने में पूरी तरह से पोषण नहीं मिलता, बाहर का संक्रामक खाना जैसे- आइक्रिम, कोल्ड ड्रिंक, पिज्जा, बर्गर आदि खाने से हमारे शरीर को पूरी तरह से पोषण नहीं मिल पाता है।

इसे भी पढे – इम्यूनिटी सिस्टम (रोग प्रतिरोधक क्षमता) कैसे बढ़ाए।

जिसके कारण इम्युनिटी कमजोर हो जाती है, हार्मोनल असंतुलित हो जाता है और बालों में रूखापन हो जाता है। सिर पर मृत कोशिकाएं यानि डेड सेल्स सफेद रंग में जमने लगते हैं

जिसमें खुजली भी होने लगती है खुजलाने पर पपड़ी जैसी सिर से गिरने लगती है। ज्यादा मात्रा में मीठा खाने से जैसे (चॉकलेट, पेस्ट्री, चीनी) आदि खाने से भी रूसी होने लगती है।

पर्यावरण बहुत दूषित होने लगा है जैसे; धूल, मिट्टी, साधनों से निकला धुँआ, तेज धूप आदि कारणों की वजह से सिर की त्वचा के रोम छिद्र बन्द हो जाते हैं जिससे त्वचा रूखी हो जाती है। रूसी का यह भी एक महत्वपूर्ण कारण है।

लम्बे समय हाई स्टेरॉयड दवा का सेवन करना (Using Medicine)

जब कोई व्यक्ति हाई स्टेरॉयड मेडिसन ज्यादा लम्बे समय तक लेता है तो उसका इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो जाता है जिसके कारण हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं जिसकी वजह से भी रूसी हो जाती है।

हानिकारक केमिकल युक्त हेयर कलर का प्रयोग करना (Using Chemical hair color)


कई बार अमोनिया युक्त हेयर कलर का इस्तेमाल लम्बे समय तक बालों में करने से सिर की त्वचा रूखी हो जाती है जिसके कारण बालों में रूसी (Dandruff) हो जाती है।

रूसी कितने प्रकार की होती है।

सामान्यत: सबको यही लगता है कि डैंड्रफ स्कैल्प के ड्राई हो जाने की वजह से परेशान करती है लेकिन ऐसा नहीं है। आपको जानकर हैरानी होगी कि डैंड्रफ एक या दो तरह के नहीं बल्कि पांच तरह के होते हैं।

और उनका समाधान भी अलग अलग तरीके से होता है। आइए जानते हैं कि कौन से पांच तरह के डैंड्रफ होते हैं और इनसे छुटकारा पाने का सही तरीका क्या है।

1. फिक्सी डैंड्रफ

जिन लोगों में फिक्सी डैंड्रफ की समस्या होती है उन्होंने ये नोटिस किया होगा कि कंघी करते समय डैंड्रफ स्कैल्प से उभरकर बालों के ऊपर आ जाते हैं। इसमें बालों की जड़ों में रूसी की एक परत जमा रहती है।

ये आम डैंड्रफ नहीं है। यदि इस तरह की स्थिति नजर आ रही है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। आप बचाव के लिए अपने स्कैल्प को साफ़ रखें और नियमित हेयर वॉश करें। संभव हो तो हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कम से कम करें।

2. सोरायसिस

त्वचा संबंधी एलर्जी, बीमारी या फिर किसी तरह के इंफेक्शन जैसे सोरायसिस की वजह से रूसी की समस्या सामने आती है। यह परेशानी स्कैल्प में सेल्स का प्रोडक्शन बढ़ने की वजह से होती है।

ये सेल्स एक परत बनकर निकलने लगते हैं। जब त्वचा के ये सेल्स सिर पर मौजूद ऑयल या फिर गंदगी के साथ मिलते हैं तब डैंड्रफ का कारण बनते हैं।

इस तरह की परेशानी होने पर आप घरेलू नुस्खे अपनाने के बजाय डर्मोटॉलॉजिस्ट से संपर्क करें। आप अपने हेयर प्रोडक्ट्स खासतौर से कंघी किसी के साथ शेयर न करें और ना ही किसी दूसरे की चीजें इस्तेमाल करें।

3. ऑयली डैंड्रफ

जब स्कैल्प में सीबम का प्रोडक्शन ज्यादा होने लगता है तब ऑयली डैंड्रफ की परेशानी सामने आती है। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण बालों को नियमित अंतराल पर ना धोना, ज्यादा पसीना आना और स्कैल्प का चिपचिपा बने रहना है।

ऑयली डैंड्रफ से निजात पाने के लिए आपको सप्ताह में 2 से 3 बार एंटी-डैंड्रफ शैम्पू से सिर धोना चाहिए। प्याज का रस 10-15 मिनट बालों में लगाकर रखें और अपने रेग्युलर शैम्पू से हेयर वॉश कर लें।

सप्ताह में कम से कम दो बार ऐसा करें। इस उपाय से डैंड्रफ की समस्या के साथ हेयर फॉल की परेशानी भी दूर होगी।

4. फंगल

सिर की त्वचा और स्कैल्प में एक प्राकृतिक फंगस मलेएसेजिया (Malassezia) मौजूद होता है, जो सामान्यतः एक सीमित मात्रा तक ही बनता है। लेकिन जब स्कैल्प ज्यादा तैलीय हो जाता है,

या फिर उसमें गंदगी जमा होने लगती है तब इसका प्रोडक्शन भी बढ़ जाता है। इस स्थिति में ये ओलिक एसिड बनाने लगता है जिससे स्किन सेल्स की मात्रा बढ़ जाती है और इससे सफेद परत बनती है।

जो सिर पर डैंड्रफ के रूप में नजर आती है। आप इससे बचने के लिए बालों को नियमित अंतराल पर धोएं और इसके लिए एंटी-डैंड्रफ शैम्पू का इस्तेमाल करें।

5. ड्राई डैंड्रफ (Dandruff)

आमतौर पर सर्दी के मौसम में ही ड्राई डैंड्रफ(dandruff) की समस्या सामने आती है। सर्दियों में स्कैल्प में नमी कम हो जाती है और सिर की त्वचा खुश्क होने लगती है। इस स्थिति में आप हेयर वॉश के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल ना करें।

सप्ताह में 2 से 3 बार आंवला ऑयल से सिर की मालिश करें। आधे घंटे तक ऑयल लगा रहने दें और गर्म पानी में भीगा तौलिया लपेट लें। इसके बाद आप शैम्पू कर सकती हैं। इस उपाय से स्कैल्प में नमी बनी रहेगी और ड्राइनेस की परेशानी खत्म होगी।

रूसी से बचने के उपाय (Dandruff in hindi)

वैसे तो रूसी(dandruff) आम समस्या है लेकिन इससे बचने के लिए लोग घरेलू नुस्ख़े ही अपनाते हैं। लेकिन कुछ जीवनशैली में और रोजमर्रा के दिनचर्या में फेरबदल करने पर रूसी होने से बचा जा सकता है। चलिये ऐसे ही तरीकों के बारे में आगे जानते हैं।

1. सिर की सफाई से करें रूसी का उपचार (Hair Wash Beneficial for Removing Dandruff)

एकत्रित हुई मृत कोशिकाओं और परतों को हटाने के लिए अपने बालों और सिर को अच्छी तरह साफ करें। बालों को धोने के लिए कटेकोनाजोल, सेलेनियम सल्फाइड या जिंक से युक्त शैम्पू का प्रयोग कर सकते हैं।

सिर की सतह पर मौजूद परतों को हटाने के लिए बारीक कंघे से अपने बालों को ब्रश करना चाहिए, ऐसा करने से रक्त परिसंचरण मे भी सुधार आएगा।

2. मालिश से रूसी का इलाज (Hair Massage : Dandruff in Hindi)

नारियल या जैतून के तैल को गर्म करने से सिर की मालिश करने से रक्त परिसंचरण में सुधार होता है जब रक्त के संचलन में सुधार होता है, तो रूसी (dandruff)नियंत्रित होती है।

3. मौसम के बदलाव से बचें (Avoid Climate Changes in Hindi)

अपने बाल और सिर को मौसम से बचाए। सूरज की किरणों और गर्मी आपके सिर में तेल का उत्पादन बढ़ा सकती है, जिससे रूसी (dandruff) की समस्या बढ़ती है, इसलिए सूरज की किरणों और खराब मौसम के सीधे सम्पर्क से बचने के लिए सिर को ढकें।

4. जीवनशैली में परिवर्तन (Change Your Lifestyle in Hindi)

तनाव कम करने, संतुलित आहार खाने और शरीर को साफ रखने से आपको रूसी को रोकने में मदद मिल सकती है, यहाँ तक की व्यायाम करने से भी आपको तनाव में राहत मिलती है, जिससे रूसी(dandruff) को रोका जा सकता है, इसलिए नियमित रूप से कुछ प्राणायाम एवं योग करना आवश्यक है।

5. सूरज की किरणें (Dry Your Hair in Sun Light in Hindi)


सूर्य की किरणों में गीले बालों को सूखाना चाहिए क्येंकि सूर्य की किरणों में विटामिन तत्व पाये जाते हैं जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।

6. स्वीमिंग करते समय कैप का इस्तेमाल (Use Cap while Swimming)


स्वीमिंग पूल में तैरते समय हमेशा सिर पर कैप लगाना चाहिए (Home remedies for Dandruff) क्योंकि स्वीमिंग पूल के पानी में क्लोरिन पाया जाता है जो कि बालों के लिए बहुत हानिकारक होता है।

7. दूसरे के कंघी और तौलिये का इस्तेमाल न करें (Don’t Share Comb and Towels with others)

किसी अन्य व्यक्ति का तौलियाँ या कंघी का कभी उपयोग नहीं करना चाहिए।

रूसी से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies for Dandruff)

रूसी के खुजली और शर्मिंदगी से बचने के लिए घरेलू नुस्ख़े सबसे ज्यादा काम आते हैं। क्योंकि अगर सही तरीके से किया गया तो घरेलू नुस्ख़े के साइड इफेक्ट्स बहुत कम होते हैं। चलिये ऐसे ही घरेलू नुस्ख़ों के बारे में जानते हैं।

1. दही के मिश्रण से रूसी करे दूर (Curd : Home Remedy for Dandruff in Hindi)


शैंपू करने के बाद बालों की जड़ों में दही (how to apply curd on hair for dandruff) अच्छी तरह लगाकर 15 मिनट तक छोड़ दें। उसके बाद फिर से बाल को धो लें।

2. नीम तेल रूसी दूर में फायदेमंद (Neem : Home remedy for Dandruff in Hindi)

neem oil


रूसी होने पर नीम का तैल लगाना बहुत लाभकारी साबित हुआ है क्योंकि नीम के तैल प्रकृति विटामिन ‘ई’ पाया जाता है जो बालों के रूखेपन को कम करता है तथा सिर की रूसी को जड़ से खत्म कर देता है।

क्योंकि नीम एक प्रकृति ‘एन्टी फंगल’ का भी काम करती है। चलिये जानते हैं कि कैसे रूसी से जल्दी कैसे निजात (how to get rid of dandruff fast) पाया जा सकता है।

नीम के तैल मे यदि 1 गिरी कर्पूर की कूटकर मिला कर लगाये तो दो हफ्ते के अन्दर रूसी खत्म हो जाती है। क्योंकि कर्पूर में शीत होती है जो सिर की खुजली को कम करने में मदद करती है।

नीम के सूखे पत्तों को बारीक पीस लें तथा उसमें जैतून का तैल मिलाकर बालों की जड़ों में लगाए। 1 घण्टे बाद बालों को शैम्पू से धो लें। यह नुस्खा रूसी(dandruff) व सिर में होने वाली खुजली को दूर करता है।

3.टीट्री ऑयल रूसी दूर करने में सहायक (Remove Dandruff by using Tea Tree oil in Hindi)


ट्रीटी ऑयल (चाय की पत्ती से बना तैल) की कुछ बूँदे नारियल के तेल (Home remedies for Dandruff) के साथ मिलाकर लगानी चाहिए।

क्योंकि टीट्री ऑयल में एन्टीबैक्टिरीयल गुण पायी जाती हैं। क्योंकि रूसी बैक्टिरीयल संक्रमण की वजह से भी होती है इसलिए टीट्री ऑयल का उपयोग रूसी (Dandruff) में करते हैं।

4. तिल का तेल रूसी से दिलाये राहत (Sesame oil : Home Remedy for Dandruff in Hindi)

Sesame oil


तिल तैल एक प्राकृतिक तेल (Natural Oil) है, तिल तेल का उपयोग रूसी में करना चाहिए क्योंकि इसमें 74 प्रतिशत फैटी एसिड पाया जाता है जो बालों को मुलायम तथा रुखेपन को कम करने में मदद करती है।

इसके अलावा इसमें विटामिन ई तथा विटामिन सी भी पाया जाता है। तिल का तेल सूर्य के हानिकारक किरणों से बालों को बचाता (Home remedies for Dandruff) है।

5. नारियल का तेल रूसी दूर करने में फायदेमंद (Use Coconut oil for removing Dandruff in Hindi)

coconutoil


200 मि.ली. नारियल के तैल (dandruff home remedies coconut oil) में 5 ग्राम कपूर का पाउडर को मिलाकर लगाने से तीन हफ्तों में रूसी खत्म हो जाती है।

6. हल्के गर्म तेल के मालिश से रूसी कम होती है (Oil Massage : Dandruff Home remedy in Hindi)


बालों में तेल लगाने से पहले तेल को हल्का गुनगुना करके लगाना चाहिए क्योंकि गुनगुना तेल बालों की जड़ में अच्छे से पहुँचता है और बालों में उपस्थित रूसी को भी कम (Home remedies for Dandruff) करता है।

7. सूखे संतरे का छिलका रूसी दूर करने में लाभकारी ( Use Dry Orange peel for removing Dandruff in Hindi)


5 से 6 चम्मच नींबू के रस में आवश्यकतानूसार सूखे संतरे के छिलके का पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें और उसको बालों की जड़ों मे लगायें (Home remedies for Dandruff) और फिर सूखने के बाद बाल को धो लें।

खान-पान में बदलाव लाकर घर में ही करें डैंड्रफ का इलाज (How to Remove Dandruff by Changing Your Diet in Hindi)

  • तैल, मिर्च-मसाले वाला खाना ज्यादा नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह वात दोष को बढ़ाकर सिर की त्वचा को रूखा कर देते हैं।
  • कॉफी, चाय का सेवन बहुत कम मात्रा में करना चाहिए।
  • हरी सब्जी जैसे लौकी, तरोई, परवल, टिण्डे आदि का सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के तत्व पाये जाते हैं जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।
  • लहसुन की एक या दो कली का सेवन खाली पेट रोज करना चाहिए क्योंकि लहसुन में एंटी फंगल एजेंट पाये जाते हैं जो रूसी को कम करने में मदद करते हैं।
  • मूंगफली का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें जिंक और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स अधिक पाये जाते हैं।
  • तिल तैल का उपयोग बालों में मालिश के रूप में तथा खाने में सब्जी आदि बनाने के रूप में करना चाहिए क्योंकि तिलतैल में अधिक मात्रा में ओमेगा पाया जाता है।

डॉक्टर के पास कब जाएं।

रूसी होने पर इन अवस्थाओं में डॉक्टर के पास अपने बच्चे को लेकर जाएं
  • अगर घरेलू इलाज करने और एंटी डैंड्रफ शैम्पू इस्तेमाल करने के बावजूद रूसी पूरी तरह से नहीं जाती है।
  • अगर त्वचा लाल हो जाए, उसमें सूजन हो और त्वचा से तरल पदार्थ निकल रहा हो।

डैंड्रफ कोई ऐसा समस्या नहीं है, जिसे ठीक न किया जा सके। हां, अगर लापरवाही बरती जाए, तो इससे अन्य परेशानियों का जन्म जरूर हो सकता है।

इसलिए, अगर आप नहीं चाहते कि आपके बच्चे को और परेशानी हो, तो लेख में बताए गए घरेलू उपचार की मदद से डैंड्रफ को जड़ से खत्म करें। यह लेख आपको कैसा लगा, हमें जरूर बताएं।

साथ ही आप अगर आपके पास भी डैंड्रफ से निपटने का कोई घरेलू नुस्खा है, तो उसे हमारे साथ नीचे दिए कमेंट बॉक्स के जरिए शेयर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *