दंडासन करने का तरीका और फायदे – Dandasana Yoga in Hindi

Dandasana Yoga in Hindi

Dandasana Yoga in Hindi : योग करने के कई फायदे हैं। यही कारण है कि सभी को इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करने की सलाह दी जाती है। यह न केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद माना जाता है।

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम एक ऐसे योग के बारे में जानकारी लेकर आए हैं, जिसे दंडासन (Dandasana) के नाम से जाना जाता है। यहां हम आपको बताएंगे कि दंडासन कैसे करें और साथ ही दंडासन के फायदे भी (Dandasana Yoga in Hindi)।

दंडासन क्या है? – Dandasana Yoga kya hai

दंडासन दो शब्दों को मिलाकर बनता है, जिसमें पहले शब्द को डंडा यानि छड़ी और दूसरे शब्द को आसन यानी आसन या आसन कहा जा सकता है। इसे अंग्रेजी में Staff Pose के नाम से भी जाना जाता है।

यह आसन अन्य बैठे योग मुद्राओं के अभ्यास के लिए आवश्यक मूल मुद्रा को प्राप्त करने में मदद करता है। दंडासन को बैठने की सभी मुद्राओं का आधार माना जा सकता है। यह एक ऐसा अभ्यास है जो आसन के लिए शरीर को तैयार करने में मदद कर सकता है।

दंडासन करने के फायदे- Dandasana yoga Benefits

ऐसा माना जाता है कि दंडासन करने से कई स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। यहां हम उन्हीं फायदों के बारे में सिलसिलेवार तरीके से बताने जा रहे हैं। तो आइए जानते हैं दंडासन के फायदे:

1. मस्तिष्क को शांत रखने में फायदेमंद – Dandasana Yoga in Hindi

Sukhasana Yoga

अन्य सभी योगासन की तरह यह आसन भी मन को शांत रखने में मददगार साबित हो सकता है। माना जाता है कि इस मुद्रा का नियमित अभ्यास तनाव हार्मोन कोर्टिसोल को कम करता है जो मन को शांत करने और ध्यान केंद्रित करने में मदद कर सकता है।

2. पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में फायदेमंद – Dandasana Yoga in Hindi

ऐसा माना जाता है कि दंडासन पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करने में फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, जो लोग कुर्सी पर ज्यादा देर तक झुककर या बैठकर काम करते हैं, उन्हें पीठ की मांसपेशियों में दर्द होता है, जिससे कई समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में दंडासन का अभ्यास उन्हें मजबूत बनाने के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

3. पाचन शक्ति बढ़ाने में फायदेमंद – Dandasana Yoga in Hindi

Digestion

कई तरह की छोटी-छोटी समस्याओं में योग मददगार हो सकता है। इन्हीं में से एक है पाचन की समस्या, जिसमें दंडासन मददगार हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि दंडासन के नियमित अभ्यास से पाचन संबंधी समस्याओं से राहत मिल सकती है।

4. रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाने में फायदेमंद

Dandasana Yoga in Hindi

हमारे शरीर में रीढ़ की हड्डी की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। इसके बिना किसी का भी बैठना, चलना आदि मुश्किल हो सकता है। यह पीठ को मजबूत बनाने में मददगार हो सकता है।

दंडासन की मुद्रा में बैठा जा सकता है, इसलिए यह माना जा सकता है कि यह आसान पीठ रीढ़ की हड्डी को मजबूत और लचीला बनाने में सहायक हो सकती है।

5. कंधों में खिंचाव लाना – Dandasana Yoga in Hindi

जो लोग लंबे समय तक डेस्क वर्क करते हैं उन्हें अक्सर कंधे में दर्द की समस्या होने लगती है। ऐसे में इस समस्या से भी राहत पाने के लिए दंडासन का अभ्यास किया जा सकता है। कहा जाता है कि दंडासन करने से कंधे में खिंचाव आता है, जिससे दर्द की समस्या कम हो सकती है।

6. साइटिका दर्द में राहत दिलाने में फायदेमंद – Dandasana Yoga in Hindi

Sciatica

साइटिका की समस्या में शरीर के निचले हिस्से में दर्द होने लगता है जैसे पैर, जांघ, टखनों में दर्द होना। इस समस्या से राहत पाने के लिए दंडासन करना फायदेमंद माना जा सकता है।

यह योगासन जांघों और कूल्हों की अंदरूनी मांसपेशियों को खींचकर उन्हें मजबूत कर सकता है। यह साइटिका के दर्द से भी राहत दिला सकता है।

दंडासन करने का तरीका – Method of Dandasana yoga in Hindi

Dandasana Yoga in Hindi
  • दंडासन करने के लिए सबसे पहले योगा मैट बिछाएं।
  • इसके बाद दोनों पैरों को शरीर के सामने फैलाएं और एक दूसरे के पास रखें।
  • दोनों पैरों के पंजों को खींचकर शरीर की ओर झुकना चाहिए।
  • इसके बाद जांघों और एड़ियों को फर्श पर दबाएं।
  • फिर दोनों हाथों को सीधा और हथेलियां जमीन पर रखें।
  • रीढ़ और गर्दन को सीधा रखें।
  • कॉलरबोन को फैलाने के लिए छाती को ऊपर उठाएं और कंधों को थोड़ा सा खींचें।
  • आगे की ओर देखें और सामान्य रूप से सांस लें।
  • इस दंडासन को 20 सेकेंड से एक मिनट तक करते रहें। इस आसन को आप अपनी क्षमता के अनुसार भी कर सकते हैं, इसमें कोई बुराई नहीं है।

दंडासन करने के दौरान सावधानियां – Precautions to do Dandasana yoga in Hindi

  • कलाई, कंधे या हाथ में गंभीर चोट लगने पर इस मुद्रा को करने से बचें।
  • अगर कमर के निचले हिस्से में कोई गंभीर समस्या या दर्द हो तो इस आसन को न करें।
  • कोई भी आसन करते समय अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक बल न लगाएं।

योग स्वस्थ रहने का एक बेहतरीन तरीका है। ऐसा करने से न सिर्फ दिमाग शांत होता है, बल्कि सभी परेशानियों से भी छुटकारा मिल सकता है। ऐसे में आर्टिकल में बताई गई विधि को अपनाकर आप दंडासन का लाभ उठाएं।

यह मन को शांत करने के साथ-साथ श्वसन तंत्र को भी लाभ पहुंचा सकता है। स्वस्थ रहने के लिए बस विभिन्न योगासनों का सहारा लेते रहें। यदि आप दंडासन करना चाहते हैं, तो आर्टिकल में दंडासन करने के तरीका और सावधानियों को पढ़कर ही इस योग को करें।

यदि इस आर्टिकल में बताई गई जानकारी आपको अच्छी लगती है तो इसे अपने परिवार और दोस्तों को जरूर शेयर करें ताकि उन्हे भी जानकारी मिल सकें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.