HindiHealthGuide

तुलसी के पत्ते के 15 फायदे और नुकसान – All About Basil Leaves

All About Basil Leaves

तुलसी का नाम सुनते ही पवित्र पौधा याद आता है। तुलसी का पौधा एक ऐसा पौधा है, जो भारत देश में लगभग हर घर में होता है, बड़े से बड़ा व छोटे से छोटा आदमी इसे अपने घर में लगाता है। भारत देश में इसे अपने घर में लगाना शुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यता के अलावा इसके वैज्ञानिक कारण भी है,

तुलसी स्वास्थ की नजर से बहुत लाभकारी है। कहा जाता है,कि घर के आँगन में तुलसी होने से रोग विरोग घर में प्रवेश नहीं कर पाते है। साथ ही घर का वातावरण भी शुद्ध होता है। आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि तुलसी के फायदे क्या होते हैं।

साथ ही तुलसी के उपयोग के सही तरीके के बारे में भी आप इस आर्टिकल में जानेंगे, ताकि आप तुलसी के नुकसान से बच सकें। तो आइए, अब विस्तार से तुलसी के फायदे और नुकसान के बारे में समझें।

तुलसी के फायदे – Basil Leaves Benefits

श्री तुलसी के फायदे और नुकसान बताने से पहले हम बता दें कि इस आर्टिकल में बताए गए तुलसी के गुण किसी तरह का डॉक्टरी इलाज नहीं है और समस्या को जड़ से खत्म नहीं कर सकते। हां, बेनेफिट्स ऑफ तुलसी में कुछ शारीरिक और मानसिक समस्याओं के लक्षणों को कम करना शामिल हो सकता है। वहीं, समस्या अगर गंभीर है, तो मेडिकल ट्रीटमेंट करवाना बहुत जरूरी है। आइए, अब आपको विस्तार से बताते हैं तुलसी के पत्ते खाने के फायदे।

1. तनाव के लिए तुलसी पत्ते के फायदे

stress

तुलसी के पौधे का हर हिस्सा एडोप्टेजेन की तरह काम करता है। एडोप्टेजेन ऐसा प्राकृतिक तत्व है जो तनाव को कम करने और मानसिक संतुलन को बढ़ाने में मदद करता है।

जर्नल ऑफ़ आयुर्वेदा एंड इंटीग्रेटिव मेडिसिन के मुताबिक तुलसी की पत्तियों में मौजूद एंटी-डिप्रेसेंट और एंटी-एंग्जायटी क्षमताओं का असर कई एंटी-डिप्रेसेंट दवाइयों की तरह होता है। आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के अनुसार भी रोजाना तुलसी की पत्तियों का सेवन करने से आप स्ट्रेस और डिप्रेशन की समस्या से आराम पा सकते हैं।

तुलसी के पत्ते हमारे शरीर में कॉर्टिसोल हॉर्मोन की मात्रा को नियमित कर सकते हैं, जो एक तरह का स्ट्रेस हार्मोन होता है। विशेषकर तुलसी की चाय का सेवन करने से तनाव कुछ हद तक कम हो सकता है। वहीं, यह अन्य मानसिक फायदे जैसे एंटीडिप्रेसेंट गुण और याददाश्त बेहतर करने में भी सहायक हो सकती है।

2. डायबिटीज में तुलसी के पत्ते के फायदे

तुलसी की पत्तियां ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करती हैं जिससे डायबिटीज कंट्रोल में रहता है। जानवरों और इंसानों पर किये शोध से यह पता चलता है कि तुलसी के सेवन से डायबिटीज से होने वाली समस्याओं जैसे कि खून में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ना, वजन बढ़ना, हाइपरटेंशन आदि में कमी आती है।

अगर आप नियमित रुप से तुलसी का सेवन कर रहे हैं तो इससे मधुमेह से बचाव होता है। यदि कोई मधुमेह के घरेलू उपचार के बारे में आपसे पूछता है, तो आप उन्हें तुलसी के उपयोग की सलाह दे सकते हैं।

3. लिवर के लिए तुलसी के पत्ते के फायदे

तुलसी एंजाइमों का उत्पादन करती है जो डिटॉक्सिफाई करने में मदद करते हैं और उच्च एंटीऑक्सिडेंट बचाव करते हैं। इससे लिवर के अंदर वसा का निर्माण कम हो जाता है। लिवर का फैट निर्माण नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर की बीमारी का कारण बन सकता है और यह स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है। इसलिए, तुलसी इस बीमारी को रोकने में मदद करती है और इस तरह की बीमारियों से एक स्वस्थ और सुरक्षित रखती है।

4.  कैंसर में तुलसी खाने के फायदे

शरीर से जुड़ी सामान्य बीमारियों के साथ-साथ तुलसी के रस के फायदे कैंसर के जोखिम को कम करने में कुछ हद तक मददगार हो सकते हैं। कुछ वैज्ञानिक रिसर्चों का कहना है कि तुलसी के रस में रेडियोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं, जो शरीर में पनपने वाले ट्यूमर सेल्स को खत्म कर सकते हैं।

इसके अलावा, तुलसी में यूजेनॉल भी पाया जाता है, जिसमें एंटीकैंसर गुण होते हैं। साथ ही तुलसी में रोसमारिनिक एसिड, एपिगेनिन, ल्यूटोलिन, माय्रटेनल जैसे जरूरी फाइटोकेमिकल्स भी होते हैं। ये भी विभिन्न प्रकार के कैंसर से लड़ने में मदद कर सकते हैं।

कैंसर कोई साधारण बीमारी नहीं है, और इसके उपचार के लिए सिर्फ घरेलू उपचार पर निर्भर रहना इसे और खतरनाक बना सकता है। इस कारण से कैंसर के लिए डॉक्टर से परामर्श करके सही उपचार लेना बहुत जरूरी है।

5. सूजन को कम करने में फायदेमंद

तुलसी के अर्क में कुछ ऐसे गुण होते है। जो सूजन को कम करने में फायदा होता है। इसके अलावा इसमें विरोधी गुण होते है। जो गठिया के उपचार में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। तुलसी कई बैक्टीरिया के विकास को प्रतिबंधित करती है,

जिसमें लिस्टेरिया मोनोसाइटोजेन्स, स्टैफिलोकोकस ऑरियस, एस्चेरिचिया कोलाई इत्यादि शामिल हैं। इसका मतलब यह हो सकता है कि सलाद में ताजा तुलसी जोड़ने से न केवल स्वाद बढ़ जाता है, यह प्लेट पर हानिकारक बैक्टीरिया की संख्या को कम करने में भी मदद करता है।

6. याद्दाश्त बढ़ाने में फायदेमंद

तुलसी में एंटी-डिप्रेसेंट क्षमताएं होती हैं। साथ ही इसका सेवन करने से दिमाग शांत रहता है। तो जाहिर है, जब दिमाग शांत रहेगा तो उसकी कार्यक्षमता बढ़ेगी। लिहाजा बच्चों को छोटी उम्र से ही रोज़ाना तुलसी के 4-5 पत्ते खाने की आदत डालनी चाहिए। इससे उनकी याद्दाश्त मजबूत होगी साथ ही इम्युनिटी भी।

इसे भी पढे – मूंगफली के फायदे, उपयोग और नुकसान – Peanuts Benefits In Hindi

7. स्मोकिंग छुड़ाने में फायदेमंद

तुलसी में एंटी स्ट्रेस एजेंट होते है, जो स्मोकिंग छोड़ने में भी मदद करते है। तनाव कम होने से सिगरेट पीने की इच्छा कम होती है, जिससे आप स्मोकिंग आसानी से त्याग सकते है। जब ही सिगरेट पीने की इच्छा जागे तुलसी की कुछ पत्तियां लेकर चबाने लगे कुछ ही समय में आपकी ये इच्छा गायब हो जाएगी। इसके अलावा तुलसी चबाने से एक और फायदा है, इतने सालों से जो स्मोकिंग से आपके शरीर को नुकसान हुआ है वो तुलसी से रिकवर हो जाता है।

8. गले की खराश से आराम दिलाने में फायदेमंद

तुलसी का उपयोग सदियों से गले को स्वस्थ रखने के लिए किया जा रहा है। गले में खराश फ्लू या कॉमन कोल्ड के कारण हो सकती है, जिसके पीछे वायरस या बैक्टीरिया का हाथ होता है। ऐसे में, इन वायरस और बैक्टीरिया को मारने की क्षमता के कारण तुलसी रस के फायदे गले की खराश से आराम पाने में मिल सकते हैं। 

आजकल कई तरह के कफ सिरप बनाने में भी इसका उपयोग किया जा रहा है। बताया जाता है कि यह फेफड़ों में जमे कफ को निकालने में भी सहायक हो सकती है, जिससे भी गले की खराश से आराम मिल सकता है।

गले के लिए तुलसी पानी पीने के फायदे उठाने के लिए एक गिलास पानी में सात-आठ तुलसी के पत्ते उबाल कर उस पानी का सेवन किया जा सकता है। इस पानी से गरारे भी किए जा सकते हैं।

9. आंखों के लिए फायदेमंद

कंजंक्टिवाइटिस से पीड़ित आंखों के लिए भी तुलसी के पत्ते का उपयोग किया जा सकता है। जी हां, कई रिसर्चों में इस बात का जिक्र किया गया है कि इसके उपयोग से कंजंक्टिवाइटिस की समस्या से आराम पाया जा सकता है, हालांकि, इसकी कार्यप्रणाली के बारे में साफ तौर पर कुछ उपलब्ध नहीं है। कंजंक्टिवाइटिस आंखों में एक प्रकार का इन्फेक्शन, जिस कारण आंखों में जलन और सूजन होती है।

नोट : तुलसी के पत्ते का उपयोग आंखों के लिए किया जाता है, लेकिन आंखें बेहद कोमल होती हैं, इसलिए आंखों में कुछ भी डालने से पहले अच्छे नेत्र विशेषज्ञ (Eye Specialist) से राय जरूर लें।

10. त्वचा के लिए तुलसी ड्राप फायदेमंद

glowing skin

त्वचा पर हो रहे एक्ने को कम करने में लिए तुलसी का उपयोग किया जा सकता है। एक रिसर्च में भी इस बात को माना गया है कि तुलसी के एसेंशियल ऑयल की मदद से एक्ने की समस्या को कम करने में मदद मिल सकती है।

वहीं, त्वचा से जुड़ी अन्य गंभीर समस्या जैसे एक्जिमा (त्वचा पर लाल और खुजलीदार चकत्ते) से आराम पाने में भी तुलसी फायदेमंद हो सकती है, क्योंकि एक्जिमा का एक बड़ा कारण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस होता है और तुलसी के एंटीऑक्सीडेंट गुण इसके लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकते हैं।

11. वजन कम करने में तुलसी के पत्ते फायदेमंद

अगर कोई वजन कम करने की कोशिश कर रहा है, तो व्यायाम और सही खान-पान के साथ तुलसी के रस के फायदे उठा सकता है। तुलसी रस के फायदे पूरे शरीर का वजन, बीएमआई और शरीर में इन्सुलिन को नियंत्रित करने में सहायक हो सकते है।

अभी, यह बताना मुश्किल है कि किस प्रभाव के कारण तुलसी के पत्ते का उपयोग करने से वजन कम हो सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि डिटॉक्स वॉटर में तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है, जो टॉक्सिक पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद कर सकता है।

12. लिवर के लिए तुलसी फायदेमंद

एक वैज्ञानिक रिसर्च के दौरान तुलसी में हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण पाए गए थे। हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण के चलते लिवर को नुकसान होने से बचाया जा सकता है। रिसर्च के दौरान पाया गया कि तुलसी के प्रयोग से लिवर में आई सूजन कम हो गई है।

13. तुलसी के बीज हड्डियों में फायदेमंद

तुलसी के बीज में खनिज काफी मात्रा में होते हैं जैसे आयरन, पोटैशियम, कॉपर, कैल्शियम, मैगनीस और मैग्नीशियम आदि । इन बीजों को प्रतिदिन खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं । इससे बढ़ते ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कम होता है । इस तरह आप जवान और तंदुरुस्त महसूस करने लगते हैं।

14. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में फायदेमंद

Immunity

तुलसी शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता मतलब रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाती है जिससे सर्दी – खांसी जुखाम, फ्लू , वायरल ये सभी शरीर में अपना असर नहीं दिखा पाते है, यदि आप तुलसी वाली चाय ठण्ड व बरसात के दिनों में पीते है, तो वह चाय आपके लिए बहुत फायदेमंद होरी है।

इसलिए, अगर किसी की भी इम्युनिटी कम है, तो उनके लिए तुलसी पत्ता खाने के फायदे कारगर साबित हो सकते हैं। साथ ही, आप तुलसी का काढ़ा भी पी सकते है। वह भी आपके के फायदेमंद साबित होगा।

15. झड़ते बालों के लिए तुलसी के पत्ते फायदेमंद

तुलसी की पत्तियां हेयर फॉलिकल्स को फिर से सक्रिय कर बालों को झड़ने से बचा सकती हैं। साथ ही बालों को जड़ों से मजबूत बना सकती हैं। इसके अलावा, स्कैल्प को ठंडा करती हैं और ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर कर सकती हैं। आप तेल में तुलसी को मिलाकर भी लगा सकते है।

तुलसी (Tulsi) का उपयोग – How to Use Basil

All About Basil Leaves

घरेलू नुस्खों में और चाय बनाने में तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल ज्यादा होता है। खासकर, तुलसी की चाय को कई बीमारियों की एक दवा कहा गया है। तुलसी को निम्न प्रकार से रोजाना इस्तेमाल किया जा सकता 0 है।

  • तुलसी के पत्तों के साथ अदरक व शहद का इस्तेमाल करके हर्बल चाय बनाई जा सकती है। यह चाय न सिर्फ सेहत के लिए फायदेमंद है, बल्कि स्वाद में भी अच्छी होती है।
  • तुलसी खाने के फायदे उठाने के लिए रोज सुबह खाली पेट तुलसी की पत्तियों को चबाया जा सकता है। उससे पहले इसे पानी से जरूर धो लें।
  • आप अपनी पसंदीदा डिश जैसे टमाटर की चटनी, फ्लेवर दही, मीट की ग्रेवी में तुलसी के पत्तों को काटकर डाल सकते हैं। इससे डिश का स्वाद भी बढ़ेगा और जरूरी पोषक तत्व भी मिलेंगे।
  • खाना बनाते समय अंत में तुलसी के पत्तों को मिक्स कर देने से इससे खाने में अनोखा स्वाद आएगा और साथ ही खाने से मनमोहक खुशबू भी आएगी।
  • जूस या मॉकटेल में भी तुलसी के पत्तों को डाल सकते हैं। इससे नया फ्लेवर मिलेगा।
  • सलाद में भी तुलसी के ताजे पत्तों को काटकर मिक्स कर सकते हैं।

तुलसी(Tulsi) के नुकसान – Side Effects of Basil

सभी फ़ायदेमंद चीजों के कुछ न कुछ नुकसान भी होते हैं, हमारी पवित्र तुलसी के भी हैं। हालांकि वैसे तुलसी बिना किसी साइड इफेक्ट के कई चीजों में लाभकारी होती है, लेकिन इसके ज्यादा सेवन से कुछ परेशानियां भी हो सकती हैं। चलिये जानते है, तुलसी के नुकसान (Side Effects of Basil) क्या – क्या है ?

  • गर्म तासीर की होने के कारण तुलसी का अत्यधिक सेवन पेट में जलन पैदा कर सकता है। इसलिए सीमित मात्रा में ही प्रयोग करें।
  • गर्भावस्था में तुलसी के सेवन से दूर रहना चाहिए। साथ ही जो महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान कराती हैं उन्हें भी तुलसी का सेवन सावधानी से करना चाहिए या तो नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपकी कोई सर्जरी हुई है या होने वाली है तो ऐसी अवस्था में यदि आप तुलसी का सेवन नियमित करती हैं, तो तत्काल बंद कर दें। तुलसी खून पतला करती है, जिसकी वजह से सर्जरी के दौरान या बाद में ब्लीडिंग का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए सावधानी बरतें। 
  • डायबिटीज़ की दवा खा रहे लोगों को तुलसी नहीं खानी चाहिए क्योंकि इससे ‘ब्लड शुगर’ लेवल कम होता है। 
  • तुलसी में पोटेशियम की मात्रा अधिक होने के कारण यह ब्लड प्रेशर कम कर सकती है। इसलिए यदि कोई ‘लो ब्लड प्रेशर’ की दवा ले रहे हैं, उन्हें तुलसी का सेवन करना ही नहीं चाहिए और यदि कर रही हैं तो तुरंत बंद कर देना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में तुलसी अदरक की चाय पीने से सीने में जलन की शिकायत हो सकती है।

गुणकारी तुलसी के पत्ते के फायदे जानने के बाद आप समझ ही गए होंगे, कि क्यों तुलसी को इतना महत्व दिया गया है। भारतीय संस्कृति में तुलसी को पवित्र पौधा माना गया है। साथ ही गुणकारी औषधि के रूप में भी इसका महत्व है। वैज्ञानिक मापदंडों पर भी तुलसी के लाभ को प्रमाणित किया गया है।

अगर आपके घर में तुलसी का पौधा नहीं है, तो जल्द से जल्द से उसे अपने आंगन या फिर बालकॉनी में रखें, ताकि भविष्य में जरूरत पड़ने पर आपको इसके लिए इधर-उधर भागना न पड़े। इस आर्टिकल में हमने आपको तुलसी के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से बताया, जिसकी मदद से इसके उपयोग से जुड़ा निर्णय आप आसानी से ले पाएं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *