10 प्रोटीन रिच फ्रूट्स | High Protein Fruits

High Protein Fruits

प्रोटीन एक आवश्यक पोषक तत्व है, जिसे शारीरिक विकास के लिए जरूरी माना जाता है।  लेकिन यह गलत धारणा है कि प्रोटीन सामग्री केवल गैर-शाकाहारी स्रोतों और कुछ सब्जियों में पाई जा सकती है।  यह कोशिकाओं की क्षति को ठीक करने के साथ ही नई कोशिकाओं के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है।

इस कारण इसे बच्चों, किशोरों और गर्भवती महिलाओं के लिए जरूरी बताया गया है इतना ही नहीं प्रत्येक व्यक्ति को हर दिन 1.6 ग्राम प्रतिकिलो (शारीरिक वजन के अनुसार) प्रोटीन लेना आवश्यक होता है। वजह यह है कि इसकी कमी लो शुगर, ऊर्जा की कमी, मांसपेशियों में कमजोरी और लिवर की समस्या पैदा कर सकती है,

वेजिटेरियन लोगों को प्रोटीन सोर्स की काफी कमी होती है। इसलिए आज मैं आपको कुछ ऐसे फलों को बारे में जानकारी दे रहा हूं जिनमें काफी मात्रा में प्रोटीन होता है और वो फलों से भी प्रोटीन ले सकते हैं। इन फलों को प्रयोग वेजिटेरियन, नॉन-वेजिटेरियन या वीगन कोई भी लोग कर सकते हैं।

हाई प्रोटीन फ्रूट्स – High Protein Fruits

शरीर के लिए प्रोटीन आवश्यक है, यह तो सभी जानते हैं। मगर, किन फलों के माध्यम से शरीर में प्रोटीन की पूर्ति की जा सकती है, यह समझना भी जरूरी है। इसलिए यहां हम क्रमवार प्रोटीन रिच फ्रूट्स के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

1. कीवी (Kiwi)

Benefits of Kiwi Fruit

कीवी एक पोषण का एक शक्ति घर मन जाता है। यह छोटा फल एक अद्भुत पावरफूड है। कीवी को चाइनीज गूजबेरी के नाम से भी जाना जाता है। स्वास्थ्य के लिए कीवी के फायदे कई सारे हैं। यह प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। प्रोटीन के साथ ही इसमें विटामिन-सी, फाइबर, पोटैशियम, विटामिन-ई, फोलेट जैसे कई पोषक तत्व शामिल होते हैं। वहीं यह पाचन स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी सहायक माना जाता हैं।

मात्रा (Quantity): कीवी की 100 ग्राम मात्रा में करीब 1.06 ग्राम प्रोटीन मौजूद रहता है।

2. अमरूद (Guava)

Guava Benefits

अमरूद स्वाद के साथ-साथ सेहत  के लिए भी काफी गुणकारी होता है। अमरूद में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। यह फाइबर का एक उत्कृष्ट स्रोत है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स भी काफी मात्रा में पाए जाते हैं। अमरुद शरीर में प्रोटीन की पूर्ति करने के साथ ही शरीर को स्वस्थ्य रखने में भी मददगार हो सकता है। हालांकि, कैंसर एक जानलेवा बीमारी हैं। इसलिए अमरुद का सेवन इस समस्या में केवल राहत पहुंचा सकता है। पूर्ण इलाज डॉक्टरी परामर्श पर ही निर्भर करता है।

मात्रा (Quantity): प्रति 100 ग्राम अमरूद में करीब 2.55 ग्राम प्रोटीन होता है।

3. खरबूजा (Cantaloupe)

Cantaloupe

खरबूजे में पानी अधिक होता है, और खरबूजे के फायदे भी अधिक हैं। इसे मस्कमेलन (Muskmelon) और कैंटालूप (Cantaloupe) के नाम से भी जाना जाता है। यह प्रोटीन के साथ ही अन्य कई जरूरी तत्वों से भरपूर होता है। खरबूजे में एंटी-कैंसर प्रभाव पाया जाता है, जो शरीर में ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा इसमें एंटीडायबिटिक यानी ब्लड शुगर को कम करने वाला गुण भी मौजूद होता है,

जिस वजह से डायबिटीज पेशेंट्स के लिए भी इसका सेवन फायदेमंद माना जाता है। ऐसे में प्रोटीन के अच्छे स्रोत के साथ-साथ इसे डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों के लिए भी उपयोगी माना जा सकता है। हालांकि, यह ध्यान रखना जरूरी है कि कैंसर एक घातक और जानलेवा बीमारी है, जिसका इलाज डॉक्टरी परामर्श पर ही निर्भर करता है।

मात्रा (Quantity): लगभग 100 ग्राम खरबूजे में 0.84 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है।

4. कटहल (Jackfruit)

Jackfruit

कटहल प्रोटीन का काफी अच्छा सोर्स होता है। और प्रोटीन रिच फ्रूट्स की लिस्ट में कटहल का नाम भी शामिल है। आमतौर पर कटहल की सब्जी बनाकर खाई जाती है, लेकिन असल में यह एक फल(Fruit) है। पका हुआ कटहल खाने में जितना मीठा होता है,

सेहत के लिए भी उतना उपयोगी हो सकता है। कटहल में मौजूद पोटैशियम ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा यह विटामिन-बी6 का महत्वपूर्ण स्रोत है, जो ह्दय रोग के जोखिम कम करने में मदद कर सकता है।

मात्रा (Quantity): प्रति 100 ग्राम कटहल में 1.72 ग्राम प्रोटीन की मात्रा होती है।

5. संतरा (Oranges)

Oranges

यदि प्रोटीन के स्रोत के रूप में किसी स्वादिष्ट फल की तलाश में है तो संतरे का सेवन किया जा सकता है। प्रोटीन के अलावा इसमें फाइबर, पानी और विटामिन्स की भी अच्छी मात्रा होती है। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन सी होता है। लोहा और पोटेशियम भी काफी होता है। शरीर में विटामिन-सी की कमी को पूरा करने के लिए भी रोजाना एक संतरे का सेवन करने की सलाह दी जाती है। विटामिन-सी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के साथ कई इंफेक्शन से सुरक्षा प्रदान कर सकता है।

मात्रा (Quantity):संतरे की प्रति 100 ग्राम मात्रा में करीब 0.94 ग्राम प्रोटीन मौजूद होता है।

6.  टमाटर (Tomatoes)

Tomatoes

टमाटर भी प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत माना जा सकता है। सब्जी में इस्तेमाल किए जाने वाला टमाटर वैज्ञानिक रूप से एक फल है। प्रोटीन के साथ इसमें पोटैशियम, विटामिन-सी, फोलेट और विटामिन-के भी मौजूद होता है। इस कारण सेहत और स्वास्थ्य के नजरिए से भी इसे काफी उपयोगी माना जाता है। वहीं इसमें लाइकोपीन नामक तत्व होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है।

मात्रा (Quantity): प्रति 100 ग्राम टमाटर में प्रोटीन की मात्रा 0.88 ग्राम पाई जाती है।

7. एवोकाडो (Avocado)

Avocado

प्रोटीन के स्रोत के रूप में एवोकाडो का सेवन किया जा सकता है। प्रोटीन के अलावा एवोकाडो में पोटेशियम, फाइबर, मैग्नीशियम, विटामिन-ई जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इन पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण एवोकाडो हाइपरटेंशन, टाइप-2 डायबिटीज व हृदय रोग से बचाव में सहायक हो सकता है। लिवर को स्वस्थ रखने में भी एवोकाडो फायदेमंद हो सकता है। एवोकाडो का सेवन फैटी लिवर के जोखिम को दूर करने में उपयोगी हो सकता है।

मात्रा (Quantity): प्रति 100 ग्राम एवोकाडो में 2 ग्राम प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है।

8. गोल्डन किशमिश (Golden raisins)

Golden raisins

गोल्डन किशमिश को बिना बीज वाले पीले अंगूरों को सुखाकर तैयार किया जाता है। इसकी गिनती भी हाई प्रोटीन फ्रूट्स में की जाती है। स्वास्थ्य के लिए इसे बेहद लाभकारी माना गया है। यह कई जरूरी एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल (बैक्टीरिया को खत्म करने वाला) गुण से समृद्ध होती है।

इसमें फेनोलिक नामक फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो हृदय संबंधी बीमारियों से बचाव करने में अहम भूमिका निभाते हैं। इसके अलावा गोल्डन किशमिश का सेवन हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया (ब्लड कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर), हाइपरटेंशन (उच्च रक्तचाप), डायबिटीज व ओरल हेल्थ के इलाज लिए भी लाभकारी माना गया है।

मात्रा (Quantity): गोल्डन किशमिश में प्रोटीन की मात्रा प्रति 100 ग्राम 3.28 ग्राम होती है।

9. चकोतरा (Grapefruit)

Grapefruit

चकोतरा संतरे की तरह दिखने वाला एक फल है, चकोतरा में प्रोटीन के साथ-साथ कई महत्वपूर्ण विटामिन और मिनिरल्स होते हैं, जिसकी वजह से इसका सेवन कई रोगों पर सकारात्मक(Positive) प्रभाव दिखा सकता है। चकोतरा में मौजूद फ्लेवोनोइड्स हृदय संबंधित रोगों के होने के जोखिम को काफी हद तक कम कर सकता है।

साथ ही इसका सेवन करने से शरीर को प्रोटीन के साथ विटामिन-सी और मैग्नीशियम जैसे जरूरी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। यह बढ़ते वजन, ट्राइग्लिसराइड (रक्त में पाए जाने वाला एक तरह का वसा है) को नियंत्रित करने के साथ एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (अच्छा कोलेस्ट्रोल) में सुधार कर सकता है।

मात्रा (Quantity): 100 ग्राम चकोतरा में करीब 0.77 ग्राम प्रोटीन उपस्थित रहता है।

10. चेरी (Cherries)

Cherries

लाल रंग का दिखने वाला फल चेरी गुणों की खान हैं। यह स्वास्थ्य के बेहद लिए लाभकारी होता हैं, प्रोटीन की पूर्ति के लिए इसका सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा यह विटामिन-ए, विटामिन-बी, विटामिन-सी, बीटा कैरोटीन, कैल्शियम, पोटैशियम और फॉस्पोरस से से भी समृद्ध होती है। चेरी का सेवन ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (मुक्त कणों की अधिकता), इंफ्लामेशन (शरीर में सूजन), ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के साथ ही गठिया के इलाज में मदगार साबित हो सकता है।

मात्रा (Quantity): 100 ग्राम चेरी में करीब 1.06 ग्राम प्रोटीन होता है।

इस आर्टिकल के माध्यम से प्रोटीन रिच फ्रूट्स के बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गई होगी। इसके साथ ही आप यह भी जान गए होंगे कि प्रोटीन हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना महत्वपूर्ण है। शरीर में प्रोटीन की कमी कई बीमारियों को पैदा कर सकती है। ऐसे में अब आप अपनी डाइट में हाई प्रोटीन फ्रूट्स को शामिल कर शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा कर सकते हैं।

वहीं अगर कोई गंभीर प्रोटीन की कमी से जूझ रहा है तो वह प्रोटीन रिच फ्रूट्स को डाइट में शामिल करने के साथ ही प्रोटीन सप्लीमेंट के विषय में डॉक्टरी परामर्श ले सकता है। उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। ऐसे में अन्य लोगों के साथ इस आर्टिकल को शेयर करना बिल्कुल भी न भूलें।



Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *