मूंगफली के फायदे, उपयोग और नुकसान – Peanuts Benefits In Hindi

Peanuts Benefits In Hindi

मूंगफली, जिसे अंग्रेजी में पीनट कहा जाता है अखरोट और बादाम जैसे स्‍वाद और पौष्टिक आहार के समान होती है। इसे जमीन से निकाला जाता है इसलिए इसे ग्राउंडनट (groundnuts) भी कहा जाता है मूंगफली अपने गुणों के कारण बहुत उपयोगी होती है। इसमें बहुत से पोषक तत्व होते है,

जो मूंगफली के फायदे (Peanuts Benefits In Hindi) बताते है। ये मैंगनीज, नियासिन (Manganese, niacin) इत्‍यादि का एक अच्‍छा स्रोत होते है। इसमें विटामिन ई, फोलेट, फाइबर और फास्‍फोरस भी अच्‍छी मात्रा में होते है। मूंगफली औषधी तो नहीं पर उनके सहयोगी के रूप में जानी जाती है।

आप मूंगफली तो जरूर खाते होंगे। भूनी हुई मूंगफली बहुत ही स्वादिष्ट होती है। मूंगफली खाने से शरीर को शक्ति मिलती है। मूंगफली में रहने वाले पोषक तत्वों के कारण ही मूंगफली को गरीबों का बादाम कहा जाता है, शायद कुछ लोग ही यह जानते हैं, इसमें कुछ फायदे ऐसे हैं,

जिन्हें जानकर आप चौंक जाएंगे। फायदों के साथ-साथ मूंगफली खाने के नुकसान के बारे में भी जानने का प्रयास करेंगे। आइए सबसे पहले जानते हैं कि मूंगफली क्या है।

मूंगफली क्या है – What is Peanut in Hindi

roasted peanut

मूंगफली क्या है? मूंगफली को फलियों की श्रेणी में रखा गया है, लेकिन मूंगफली मे सूखे मेवों के भी गुण मौजूद होते हैं। यही कारण है कि मूंगफली को नट्स की श्रेणी में भी शामिल किया जा सकता है। वहीं, मूंगफली में तेल की उच्च मात्रा पाई जाती है, इसलिए इसे तिलहन की फसल में भी शामिल किया जाता है।

ये प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होती है। नट्स और तेल में इस्तेमाल होने के अलावा, मूंगफली का उपयोग मक्खन, स्नैक उत्पाद और डेसर्ट बनाने में भी किया जाता है। मूंगफली को कई नामों से जाना जाता है, चलिए उन्हे भी जानते है।

मूंगफली के अन्य नाम

मूंगफली को कई नामों से जाना जाता है, जैसे हिंदी में मूंगफली, तेलगु में ‘पलेलु’ (Pallelu), तमिल में ‘कदलाई’ (Kadalai), मलयालम में ‘निलक्कड़ला’ (Nilakkadala), गुजराती में ‘सिंगदाना’ (Singdana) और मराठी में ‘शेंगदाना’ (Shengdaane) कहा जाता है।

इसके अलावा, मूंगफली को जमीन से प्राप्त किया जाता है, जिस कारण इसे ग्राउंडनट भी कहा जाता है। मूंगफली भारत में पूरे वर्ष, हर जगह मिलती है और इसके उत्पादन में भारत का दूसरा स्थान है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि मूंगफली का उत्पादन चीन में सबसे ज्यादा किया जाता है।

मूंगफली के घटक – Nutritional  Value of Peanuts

ये कार्ब्स (Carbs) में कम और पोषक तत्वों में ज्यादा संपन्न है। मूंगफली प्रोटीन (protein) का एक बहुत बड़ा स्रोत है। बायोटिन (Biotin), नियासिन (niacin), फॉलेट (folate), मैग्‍नीज, विटामिन ई, थियामीन (Thiamine), फास्‍फोरस (phosphorus) ओर मैग्‍नीशियम (magenesium) से भी भरपूर है। जो सभी स्वस्थ शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते है।

  • प्रोटीन (Proteins)
    प्रोटीन (protein) हमारे कोशिकाओं (Cells) के स्‍वास्‍थ के लिए आवश्‍यक है, यह हमारे शरीर की कोशिकाओं को लगातार वृद्धि में सहायक होता है। साथ ही यह क्षतिग्रस्‍त कोशिकाओं की मरम्‍मत भी करता है। हमारे शरीर को प्रोटीन की आवश्‍यक्‍ता होती है, जिसकी पूर्ती हम मूंगफली के रूप कर सकते है। बच्‍चों और कम प्रोटीन वाले लोगों को नियमित रूप से आहार के रूप में इसका सेवन करना चाहिए।
  • एंटीऑक्सिडेंटस (Antioxidants)
    मूंगफली में एंटीऑक्सिडेट पॉलीफेनोल की उच्‍च मात्रा होती है, मुख्‍यत: पी-कूमरिक एसिड (p-coumaric acid) और ओलिक एसिड नामक एक यौगिक, जो न केवल हृदय की रक्षा करती है बल्कि हानीकारक तत्‍वों के उत्‍पादन को रोकती है।
  • खनिज  (Minerals)
    मूंगफली में मैग्‍नीशियम (Magnesium), फास्‍फोरस (phosphorus), पोटेशियम (potassium), जस्‍ता (zinc), कैल्शियम (calcium), सोडियम (sodium) आदि जैसे खनिजों का एक अच्‍छा स्रोत है। ये हमारे शरीर के अच्‍छे तरह से कार्य करने के लिए आवश्‍यक होते है। मूंगफली के नियमित आहार से हम इन को तत्‍वों शरीर के स्‍वास्‍थ के लिए उपलब्‍ध करा सकते है। इन खनिजों की आपूर्ती स्‍वस्‍थ हृदय और रोगों के खतरों को कम करती है।
  • विटामिन (Vitamins)
    समग्र विकाश के लिए विटामिन (Vitamins) महत्‍वपूर्ण हैं। विटामिन कोशिकाओं और ऊतकों के लिए महत्‍वपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य सुनिश्चित करते हैं, और संक्रमणों से बचाते है। मूंगफली हमारे शरीर को आवश्‍यक विटामिन प्रदान करती है, जो चयापचय (Metabolism) को विनियमित करने, वसा और कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) को ऊर्जा में बदलने का काम करती है। प्रोटीन हड्डी और ऊतकों के गठन की सुविधा प्रदान करने में भी मदद करते है।

मूंगफली के फायदे – Peanuts Benefits In Hindi

मूंगफली के फायदे अभी तक आप नहीं जानते थे, तो हम बताने जा रहे हैं कि मूंगफली के फायदे कैसे स्वास्थ्यकारी हो सकते हैं। कच्ची मूंगफली खाने के फायदे से लेकर मूंगफली कैसे खाये, ये सभी जानकारी यहां आपको मिल जाएगी। चलिए मूंगफली के फायदे जानते है।

1. दिमाग को तेज रखने में मूंगफली के फायदे

मूंगफली खाने से दिमाग ( Brain) तेज होता है मूंगफली में पाए जाने वाला विटामिन ( Vitamin) B3 दिमागी प्रक्रिया तेज करता है और याददाश्त ( memory) को भी तेज करता है। इसके साथ में पाए जाने वाला रेस्वेराट्रोल फ्लेवोनोइड तत्व (Resveratrol flavonoid element) Mind में Blood supply 30% बढ़ा देता है, जिससे दिमाग स्वस्थ और Active होने लगता है।

2. डायबिटीज के लिए मूंगफली के फायदे

बदलती जीवनशैली के साथ कई बीमारियां आम हो चुकी हैं। ब्लड शुगर यानी डायबिटीज भी उन्हीं में से एक है। इस बीमारी का सही वक्त पर पता चलना जरूरी है, नहीं तो इससे शरीर के कई अंग प्रभावित हो सकते हैं, खासकर किडनी।

डायबिटीज तीन प्रकार के होते हैं टाइप 1 डायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज और गर्भावधि डायबिटीज। जिन्हें डायबिटीज है या जो लोग इससे बचना चाहते हैं, उन्हें अपनी डाइट में मूंगफली को जरूर शामिल करना चाहिए। मूंगफली में मौजूद मैंगनीज कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है।

वहीं, वसा और कार्बोहाइड्रेट चयापचय और खून में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। ऐसे में अगर आप मूंगफली का सेवन नहीं भी करना चाहें, तो बाजार में मिलने वाले पीनट बटर का सेवन कर सकते हैं। पीनट बटर के सेवन से टाइप 2 डायबिटीज का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है।

इसे भी पढे – दलिया खाने के 8 फायदे और नुकसान – Bulgur Wheat (Daliya) Benefits

3. दिमाग के लिए मूंगफली के फायदे

दिमाग तेज करने के मामले में बादाम खाने की सलाह दी जाती है, लेकिन यही काम सस्ती-सी मूंगफली भी कर सकती है। मूंगफली और पीनट बटर में प्रचुर मात्रा में विटामिन-ई मौजूद होता है। यह शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो नर्वस मेम्ब्रेन की रक्षा करता है। इसमें मौजूद थायमिन (Thiamine) मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र तक ऊर्जा पहुंचाने में मदद करता है। इसके अलावा, मस्तिष्क तक रक्त का प्रवाह भी ठीक रहता है।

4. मजबूत हड्डियों के लिए मूंगफली खाने के फायदे

मूंगफली कैल्शियम से भरपूर होती है जो हड्डियों को मजबूत करने का काम करती है। यह सभी को पता है कि कैल्शियम को हड्डियों और दातों को मजबूत बनाए रखने के लिए जाना जाता है। जब शरीर से एक्स्ट्रा पानी निकलता है तब कैल्शियम की कुछ मात्रा भी निकलती है। कैल्शियम से भरपूर डाइट होने के कारण आपकी हड्डियां कभी कमजोर नहीं होंगी। इसलिए मूंगफली को डाइट में आसानी से हड्डियां मजबूत बनाने के लिए शामिल कर सकते हैं।

5. स्वस्थ्य त्वचा के लिए मूंगफली खाने के फायदे

मूंगफली में भरपूर मात्रा में मैग्रीशियम पाया जाता है जो हमारे तंत्रिका तंत्र, मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को शांत करके त्वचा के लिए बेहतर रक्त प्रवाह प्रदान करता है। इससे आपको एक युवा और स्वस्थ त्वचा मिलती है। मूंगफली में पाया जाने वाला बीटा कैरोटीन एक एंटीऑक्सीडेंट है जो त्वचा के स्वास्थ्य के लिए बहुुत महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा त्वचा की सूचन कम करने में भी मूंगफली का प्रयोग फायदेमंद है। इससे सोरायसिस और एक्जिमा जैसे त्वचा रोगों का इलाज भी किया जाता है। मूंगफली में मौजूद फैटी एसिड भी सूजन और त्वचा की लालिमा को कम करता है।

मूंगफली में मौजूद फाइबर विषाक्त पदार्थों और कचरे को बाहर निकालने के लिए आवश्यक है। शरीर के अंदर विषाक्त पदार्थ त्वचा पर डल्नस और अतिरिक्त तेल के कारण होते हैं। नियमित रूप से मूंगफली सेवन आपको एक स्वस्थ त्वचा देने में मदद करता है।

6. अल्जाइमर के लिए मूंगफली के फायदे

मूंगफली का सेवन अल्जाइमर जैसी बीमारियों में भी लाभदायक है। इसमें रेसवेरट्रोल नामक एक यौगिक होता है जो मृत कोशिकाओं को कम करने, डीएनए की रक्षा करने और अल्जाइमर रोगियों में तंत्रिका संबंधी क्षति को रोकने के लिए फायदेमंद है।

उबाली हुई या भुनी हुई मूंगफली ज्यादा लाभकारी होती है, क्यूंकि ये रेसवेरट्रोल के स्तर को बढ़ा देती है। अध्ययनों से पता चला है कि नियासिन में समृद्ध खाद्य पदार्थ जैसे कि मूंगफली, अल्जाइमर रोग के खतरे को 70 प्रतिशत तक कम कर सकती हैं।

इसे भी पढे – सर्दी-जुकाम से राहत पाने के 10 घरेलू उपचार (Home Remedies for Common Cold)

7. तनाव के लिए मूंगफली खाने के फायदे

ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो तनाव की समस्या से जूझ रहे हैं। इससे बचने के लिए कुछ लोग दवाइयां खाते हैं, जो सेहत के लिए ठीक नहीं है। ऐसे में अगर आप अपने आहार में मूंगफली को शामिल कर सकते हैं, तो तनाव से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। व्यक्ति को तनाव तब होता है,

जब शरीर में सेरोटोनिन का स्तर कम हो जाता है, ऐसे में मूंगफली का सेवन काफी फायदेमंद होता है। मूंगफली में ट्रिप्टोफैन पाया जाता है, जो शरीर में सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाता है। इसलिए, मूंगफली के सेवन से मन व दिमाग शांत होता है और तनाव से राहत मिलती है। आप मूंगफली को चाय के साथ स्नैक्स की तरह खा सकते हैं।

8. बालों के लिए मूंगफली के फायदे

मूंगफली में कई स्वास्थ्यकारी अमीनो एसिड पाए जाते हैं, जिनमें से एक है लाइसिन। शोध के अनुसार,  लाइसिन मुख्य रूप से बालों की जड़ के अंदरूनी हिस्से में मौजूद होता है, जो बालों के आकार और घनापन देने के लिए जिम्मेदार होता है। भोजन में लाइसिन की अपर्याप्त आपूर्ति से बाल कमजोर और पतले हो सकते हैं।

यह अमीनो एसिड जिंक और आयरन के अवशोषण को भी बढ़ा सकता है। लाइसिन की पूर्ति करने में मूंगफली का सेवन मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में अमीनो एसिड पाए जाते हैं, जो बालों को जरूरी पोषण पहुंचा सकते हैं। इसलिए, कहा जा सकता है कि भुनी मूंगफली खाने के फायदे बालों को चमकदार और स्वस्थ बना सकते हैं।

9. गॉलब्लैडर में स्टोन के लिए मूंगफली के फायदे

गॉलब्लैडर में पथरी की समस्या बहुत ही कष्टदायक होती है। अगर जल्द से जल्द इसका इलाज न कराया जाए, तो यह खतरनाक रूप भी ले सकती है। अक्सर इसके लक्षण सामान्य होते हैं, जिस कारण यह बीमारी जल्द पकड़ में नहीं आती है।

ऐसे में इसके लक्षणों को पहचान कर तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर दवाइयां तो लेनी ही चाहिए, साथ ही अपने खान-पान का भी ख्याल रखना चाहिए। इस मामले में मूंगफली आपको काफी हद तक आराम देगी। इसलिए, आप नियमित रूप से मूंगफली का सेवन कर सकते हैं।

10. सामान्य ब्लड प्रेशर के लिए मूंगफली के फायदे

मूंगफली के फायदे (mungfali ke fayde) मिनरल्स से भरपूर होते हैं जैसे कि कॉपर, मैंगनीज, कैल्शियम, पोटेशियम और ज़िंक जो शरीर में ब्लड प्रेशर सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं। नमक का सेवन ज्यादा करने से इसका बुरा असर रक्त वाहिकाएं पर होता है।

लेकिन कॉपर इस असर को होने नहीं देता है जिससे ब्लड प्रेशर सामान्य बना रहता है। अगर आपको बी.पी की दिक्कत है तो मूंगफली का सेवन सही मात्रा में करें और चाहें तो डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं।

11. कैंसर से बचाव के लिए मूंगफली खाने के फायदे

मूंगफली में पाए जाने वाले अनसैचुरेटड फैट्स, कुछ विटामिन, खनिज और बायोएक्टिव तत्व कैंसर विरोधी प्रभाव दिखा सकते हैं। विशेष रूप से, मूंगफली में मौजूद फाइटोस्टेरॉल कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है। साइंटिफिक रिसर्च ये कहती हैं कि मूंगफली के माध्यम से फाइटोस्टेरॉल का सेवन, प्रोस्टेट ट्यूमर के मामलों में 40 प्रतिशत और शरीर के अन्य भागों में फैलने वाले कैंसर की घटनाओं में लगभग 50 प्रतिशत कमी ला सकता है।

फाइटोस्टेरॉल की तरह, रेस्वेराट्रोल भी कैंसर से बचाव में सहायक हो सकता है, क्योंकि यह बढ़ते कैंसर के लिए रक्त की आपूर्ति रोक सकता है। मूंगफली में मौजूद ये दोनों तत्व कैंसर कोशिका को पनपने से रोक सकते हैं। इस आधार पर कहा जा सकता है कि मूंगफली और इससे बने उत्पाद,फेफड़े, पेट, ओवेरी, प्रोस्टेट और स्तन कैंसर से बचाव में सहायक हो सकते हैं।

इस आधार पर कहा जा सकता है कि मूंगफली के फायदे कैंसर से बचाव में सहायक हो सकते हैं। वहीं, यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि मूंगफली को कैंसर का इलाज नहीं माना जा सकता है, क्योंकि यह एक गंभीर बीमारी है। इसके इलाज के लिए डॉक्टरी उपचार करवाना जरूरी है। कैंसर पेशेंट्स हेल्दी डायट के लिए पीनट को डायट में शामिल कर सकते हैं। यह स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो सकता है, पर यह कैंसर का इलाज नहीं है।

12. ऊर्जा बढ़ाने के लिए मूंगफली के फायदे

घंटों कुर्सी पर बैठकर कंप्यूटर व लैपटॉप पर काम करना हो या घर के कामों की भागादौड़ी हो, हर काम में ऊर्जा की जरूरत होती है। ऐसे में उन आहारों को अपनी जीवनशैली में शामिल करना चाहिए, जिसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व हों और शरीर को ऊर्जा मिले।

इस काम में मूंगफली आपकी मदद कर सकती है। मूंगफली में विटामिन, खनिज, पोषक तत्व और एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं। इनसे आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में एनर्जी मिलती है । आप मूंगफली को स्नैक्स के तौर पर फ्राई करके खाएं, इसकी चटनी बनाकर खाएं या फिर ब्रेड पर पीनट बटर लगाकर खाएं, आपको हर तरह से लाभ होगा।

13. वजन बढ़ने का जोखिम कम कर सकती है मूंगफली

हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि मूंगफली एक प्रकार का नट है जिसमें हेल्दी फैट्स (मोनोअनसैचुरेटेड फैट) पाए जाते हैं, इसलिए इसे हेल्दी डायट का हिस्सा बना सकते हैं। जो लोग वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं वो भी सीमित मात्रा में इसे डायट में शामिल कर सकते हैं।

स्कूली बच्चों पर की गयी एक रिसर्च इस बात की पुष्टि करती है कि दो साल तक मूंगफली का सेवन करने के बाद ओवरवेट बच्चों के वजन में कमी पाई गयी। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि मूंगफली खाने के फायदे ये भी हैं कि यह इससे वजन बढ़ने का जोखिम न के बराबर हो सकता है।

14. विटामिन से भरपूर है मूंगफली

फल, सब्जियों व नट्स को विटामिन का अच्छा स्रोत माना गया है। हालांकि, कई बार अखरोट, बादाम व पिस्ता जैसे महंगे ड्राई फ्रूट्स खाना जेब पर काफी भारी पड़ जाता है। इस स्थिति में आपको जरूरी विटामिन सस्ती मूंगफली से मिल सकते हैं।

जी हां, मूंगफली गुणों का खजाना है और विटामिन से भरपूर है। मूंगफली में बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन जैसे नियासिन (niacin), राइबोफ्लेविन (riboflavin), थियामिन(thiamin), पैंटोथेनिक एसिड (pantothenic acid) आदि होते हैं। मूंगफली आपको अंदर से मजबूत बनाकर स्वस्थ रखेगी।

15. मिनरल्स से भरपूर है मूंगफली

अगर आप चाहते हैं कि आपका शरीर सही तरह से काम करे, तो विटामिन्स के साथ-साथ मिनरल्स की भी जरूरत है। दिल को स्वस्थ्य रखना हो, मसूड़ों और दांतों को मजबूत करना हो, हड्डियों और मांसपेशियों को सही रखना हो या शरीर के अन्य अंगों को स्वस्थ रखना हो, तो मिनरल जरूरी होता है। ऐसे में मूंगफली आपके लिए गुणों का खजाना है। मूंगफली में पोटैशियम, मैंगनीज, कॉपर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, सेलेनियम और जिंक जैसे जरूरी मिनरल्स होते हैं।

16. मूंगफली खाने के फायदे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

मूंगफली खाने के फायदे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। इसमें मौजूद एक एंटीऑक्सीडेंट को कोरेस्वेराट्रोल के नाम से जाना जाता है जो एक पॉलीफेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट है। इनका काम यह है कि यह फ्री रेडिकल को सेहतमंद सेल से मिलने नहीं देते हैं और मिलने से पहले ही इन्हें नष्ट कर देते हैं।

जिससे फ्री रेडिकल सेहतमंद सेल को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचा सकें। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर डाइट फ्री रेडिकल के द्वारा होने वाले नुकसान से बचाव करती है। फ्री रेडिकल के नुकसान से कई बीमारी हो सकती हैं जैसे कि अल्जाइमर रोग, हृदय रोग और अपक्षयी तंत्रिका समस्याएं आदि। इसलिए सेहतमंद रहने के लिए आपका शरीर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होना जरुरी है।

17. कोलेस्ट्राल कम करने में मूंगफली के फायदे

फैट डाइट की तुलना में मूंगफली और इसके उत्पाद (मक्खन और तेल) दिल की सेहत के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। शोध के अनुसार, इसमें उच्च मोनोअनसैचुरेटेड फैट होते हैं, जो कुल बॉडी कोलेस्ट्रॉल को 11 प्रतिशत और खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को 14 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं।

रिसर्च में यह भी पाया गया है कि मूंगफली अच्छे कोलेस्ट्राल (HDL) को बनाए रखने का काम कर सकती है।  मूंगफली के ये गुण कोलेस्ट्राल का संतुलन बनाए रखने में मददगार हो सकते हैं। इसलिए, कोलेस्ट्राल कम करने में मूंगफली खाने के फायदे लिए जा सकते हैं लेकिन इसका सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए।

18. ऑक्सीजन की कमी नहीं देते हैं

मूंगफली में कॉपर नाम का मिनरल होता है जो खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाने में मदद करता है। कॉपर हीमोग्लोबिन प्रोड्यूज करने के लिए जाना जाता है जो खून में ऑक्सीजन ले जाने का काम करता है। कॉपर का सेवन करने का मतलब है कि हीमोग्लोबिन का ज्यादा मात्रा में प्रोड्यूज होना जिससे शरीर में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। ऐसा होने से ऑक्सीजन की कमी से होने वाली बीमारी जैसे कि एनीमिया होने के भी आसार कम हो जाते हैं।

मूंगफली के पौष्टिक तत्व – Peanut Nutritional Value in Hindi

पोषक तत्वप्रति 100 ग्राम में मात्रा
जल6. 5 ग्राम
ऊर्जा567 कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट16.13 ग्राम
 प्रोटीन25.80 ग्राम
टोटल फैट49.24 ग्राम
डाइटरी फाइबर8. 5 ग्राम
फॉलेट्स240 माइक्रोग्राम
नियासिन12.066 मिलीग्राम
पैंटोथेनिक एसिड1. 767 मिलीग्राम
पायरीडॉक्सीन0. 348 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.135 मिलीग्राम
थायमिन0. 640 मिलीग्राम
विटामिन ई8. 33 मिलीग्राम
सोडियम18 मिलीग्राम
पोटैशियम705 मिलीग्राम
कैल्शियम92 मिलीग्राम
 कॉपर1.144 मिलीग्राम
आयरन4.58 मिलीग्राम
मैग्नीशियम168 मिलीग्राम
मैंगनीज1. 934 मिलीग्राम
फास्फोरस 76 मिलीग्राम
सेलेनियम 7.2 माइक्रोग्राम
जिंक3. 27 मिलीग्राम

मूंगफली का उपयोग कैसे करे – How to Use Peanut in Hindi

आप मूंगफली को आसानी से अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। इसके लिए आपको ज्यादा मेहनत करने की भी जरूरत नहीं है। नीचे हम इसी बारे में आपको बता रहे हैं।

उबाल कर खाएं मूंगफली

आप मूंगफली को उबालकर खा सकते हैं। कहा जाता है कि अमेरिका में मूंगफली को उबालकर खाना बहुत प्रचलित है। उबली हुई मूंगफली बहुत ही स्वादिष्ट होती है और सेहतमंद भी होती है, क्योंकि यह रोग से लड़ने वाले यौगिकों को लगभग चार गुना बढ़ा देती है। इसके अलावा, मूंगफली में कम मात्रा में सैचुरेटेड फैट होता है, जो इसे एक संपूर्ण आहार बनाता है। नीचे हम मूंगफली उबालने की विधि आपको बता रहे हैं।

 मूंगफली कैसे उबालें?
  • सबसे पहले मूंगफली को अच्छे से धो लें और फिर एक घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  • अब 200 एमएल पानी में एक चम्मच नमक मिला दें।
  • फिर इसमें मुट्ठीभर मूंगफली डालकर उबाल लें।

मूंगफली में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन होता है। इसलिए, इसे विभिन्न तरीकों जैसे – मक्खन, तेल, आटा और फ्लेक के रूप में उपयोग किया जाता है। मूंगफली का तेल बड़े पैमाने पर खाना पकाने और कृत्रिम मक्खन तैयार करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसे हाइड्रोलिक प्रेशर लगाकर शेल और क्रश की हुई मूंगफली से निकाला जाता है।

मूंगफली का आटा

कई लोग मूंगफली के आटे का भी सेवन करते हैं। मूंगफली का आटा बनाने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाली मूंगफली का चयन किया जाता है, जिससे मूंगफली खाने के नुकसान से बचा जा सकता है। फिर इन्हें भून कर आटा बनाया जाता है। इस आटे का उपयोग मिठाई बनाने या फिर बेकरी में किया जाता है। पीनट खाने के फायदे लेने के लिए इसके कई स्वादिष्ट व्यंजन बनाए जा सकते हैं।

पीनट बटर के रूप में मूंगफली का सेवन

Peanut butter

कई लोग पीनट बटर यानी मूंगफली का मक्खन खाना भी पसंद करते हैं। यह आसानी से बाजार में व सुपरमार्केट में मिल जाता है, लेकिन आप इसे घर में भी बना सकते हैं। बाजार की तुलना में घर में बना पीनट बटर न सिर्फ सेहतमंद होगा, बल्कि सस्ता भी होगा। नीचे हम इसकी आसान विधि आपको बता रहे हैं :

सामग्री :
  • दो से तीन कप मूंगफली लें,
  • आधा या एक चम्मच चीनी लें (आवश्यकतानुसार)
  • एक चम्मच शहद लें (वैकल्पिक)
  • एक चौथाई चम्मच या चुटकीभर नमक लें,
  • दो से तीन बड़े चम्मच मूंगफली का तेल या अन्य वेजिटेबल ऑयल ले सकते है।
बनाने की विधि :
  • सबसे पहले कड़ाही या पैन में कच्ची मूंगफली को बिना तेल-घी के भून लें।
  • जब मूंगफली सुनहरी हो जाए, तो गैस बंद कर दें और इसे ठंडा होने दें।
  • ठंडा होने के बाद मूंगफली छिलके निकाल लें।
  • फिर मूंगफली मिक्सी में पीस लें। उसके बाद अन्य सामग्रियां जैसे – मूंगफली का तेल, चीनी, नमक व शहद मिलाकर एक बार और पीस लें।
  • पीसते वक्त बीच-बीच में मिक्सी खोलकर पेस्ट को चलाते रहें ताकि यह अच्छे से पेस्ट बन जाएं।
  • ध्यान रहे कि सामग्रियों को मिलाकर एक बार चख लें और सामग्रियां अपने स्वाद अनुसार ही मिलाएं।
  • अब पीनट बटर तैयार है। इसे किसी साफ-सुथरी शीशे के बोतल या अन्य किसी जार में रख सकते हैं। फिर जब मन करे, तब इसे रोटी या ब्रेड के साथ खाएं।

भुनी हुई मूंगफली

भुनी हुई मूंगफली लोकप्रिय भारतीय स्नैक है और इसे तैयार करना भी आसान है। आप मूंगफली को बिना तेल-घी के कड़ाही या फ्राई पैन में भून सकते हैं। इसके अलावा, आप तेल-घी के साथ भी इसे भून सकते हैं और भूनते वक्त स्वादानुसार नमक भी मिला सकते हैं। भूनने के बाद खाते वक्त भी नमक मिलाया जा सकता है। आप भुनी हुई मूंगफली को स्नैक्स के तौर पर, मिक्सचर के साथ, खीरे-प्याज के साथ या अन्य कई तरीकों से सेवन कर सकते हैं।

मूंगफली का सेवन कब करें?
peanuts

मूंगफली खाने का सही समय क्या है या मूंगफली का सेवन कब करें, इसको लेकर कोई रिसर्च मौजूद नहीं है। पूरी तरह स्वस्थ व्यक्ति इसे कभी भी खा सकते हैं। भोजन के बीच में हेल्दी स्नैक्स के रूप में भुनी मूंगफली खाने के फायदे लिए जा सकते हैं।

मूंगफली का सेवन कितनी मात्रा में करें?

विशेषज्ञों के अनुसार, एक मुट्ठी मूंगफली का सेवन प्रतिदिन किया जा सकता है। मूंगफली के फायदे और नुकसान को ध्यान रखते हुए इनका सेवन हमेशा संतुलित मात्रा में करना चाहिए।

मूंगफली खाने के नुकसान – Peanuts Side effects in Hindi

एलर्जी के अलावा मूंगफली खाने से ज्‍यादा कुछ हानीकारक प्रभाव सामने नही आते है।

  • हालाकि मूंगफली कभी-कभी एफ्लोटॉक्सिन (aflatoxin) के साथ दूषित हो सकती है।
  • मूंगफली कभी-कभी मोल्‍ड की प्रजाति के साथ दूषित हो सकती है (Aspergillus flavus) जो एफलैटॉक्सिन (Aflatoxin) नामक जहरीले पदार्थ का उत्पादन करती है।
  • एफ्लैटॉक्सिन विषाक्‍तता (poisoning) के मुख्‍य लक्षणों में भूख में कमी आंखों का पीला होना या पीलिया होना (jaundice) जिसमें जिगर की समस्‍या (liver problems) के लक्षण शामिल है।
  • यदि मूंगफली को गर्म और आर्द्र (warm and humid) जगहों में संग्रहीत किया जाता है, तो मूंफली एफलैटॉक्सिन से दूषित हो सकती है जिससे यकृत की समस्‍या (lever problems) हो सकती है।
  • मूंगफली युक्त एंटी-पोषक पदार्थ पदार्थ होते हैं, जो आमतौर पर शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण को कम करते हैं और खाए जाने वाले भोजन के पोषण मूल्य को कम करते हैं।
  • सबसे महत्वपूर्ण मूंगफली के सेवन से एलर्जी हो सकती है उन लोगों को इसके इस्तेमाल से बचने की सलाह दी जाती है जिन्हें मूंगफली और मूंगफली उत्पादों से एलर्जी होती है।

मूंगफली को लम्बे समय तक सुरक्षित रखने का तरीका – How to Store Peanut in Hindi

अब आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि इसे कैसे स्टोर किया जाए कि यह लंबे वक्त तक ठीक रहे। इसके लिए आपको ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है, हम आपको मूंगफली को लंबे वक्त तक सुरक्षित रखने का तरीका बता रहे हैं। आप दिए हुए टिप्स को फॉलो करें।

  1. आप मूंगफली के दानों को एयर टाइट जार में कुछ वक्त तक स्टोर करके रख सकते हैं।
  2. साबुत मूंगफली (Unshelled) को अगर ठंडी जगह पर रखा जाए, तो यह कई महीनों तक ठीक रह सकती है।
  3. ध्यान रहे कि मूंगफली में कीड़े भी लग सकते हैं, इसलिए अगर मूंगफली को फ्रिज में रखना है, तो उसे जीप लॉक बैग में डालकर रखें।
  4. घर में बने पीनट बटर को एयर टाइट डिब्बे में बंद करके फ्रिज में रखें। कोशिश करें कि इतना ही पीनट बटर बनाएं, जो एक-दो दिन में खत्म हो जाए।
  5. अगर आप बाजार से पीनट बटर खरीद रहे हैं, तो ध्यान रहे कि आप उसकी एक्सपायरी डेट देखकर ही खरीदें।
  6. अगर आप मूंगफली को भूनकर रख रहे हैं, तो कोशिश करें कि भुनी हुई मूंगफली उसी दिन या अगले दिन तक खत्म हो जाए। भुनी हुई मूंगफली को ज्यादा दिनों तक स्टोर न करें।

अगर मूंगफली का सही तरीके से सेवन किया जाए, तो मूंगफली खाने के फायदे अनेक हैं। अब जब आपको मूंगफली के फायदे पता चल चुके हैं, तो आप इसे अपनी डाइट में शामिल करना न भूलें। अगर बात करें मूंगफली के नुकसान की, तो सीमित मात्रा में उपयोग करने से नुकसान नहीं होगा।

याद रखें कि सावधानी में ही सुरक्षा है। फिर भी हमने मूंगफली के कुछ नुकसान बताएं हैं, आप ऊपर पढ़ सकते है, आप मूंगफली को संतुलित मात्रा में अपनी डाइट में शामिल कर इसके गुणों को अपने शरीर में अवशोषित कर खुद को सेहतमंद रखें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *